ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर: भीमभेर सेक्‍टर में पाक ने तोड़ा सीजफायर, भारतीय सेना दे रही जवाब

अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी जवानों ने छोटे हथियारों, स्वचालित हथियारों व मोटार्र से भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की।
अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी जवानों ने छोटे हथियारों, स्वचालित हथियारों व मोटार्र से भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की। (फाइल फोटो)

पाकिस्तानी सेना ने बुधवार (28 जून) को जम्मू कश्मीर के राजौरी और पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के करीब गोलीबारी कर और गोले दागकर संघर्षविराम का उल्लंघन किया। एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि भारतीय सेना असरदार और करारा जवाब दे रही है। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पाकिस्तानी सेना ने आज दिन में पौने तीन बजे से राजौरी जिले में भीमभेर गली (बीजी) सेक्टर में नियंत्रण रेखा के करीब छोटे हथियारों और स्वचालित हथियारों से गोलीबारी की और मोर्टार गोले दागे।’’

पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले के बालाकोट क्षेत्र में नियंत्रण रेखा के करीब गोले दागे और गोलीबारी की। इस महीने पाकिस्तानी सेना ने पुंछ और राजौरी जिले में 21 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। ईद-उल-फितर के मौके पर 26 जून को पाकिस्तानी सेना ने राजौरी के भीमभेर गली में नियंत्रण रेखा के करीब छोटे हथियारों और स्वचालित हथियारों से गोलीबारी की। एक दिन पहले ही पाकिस्तानी सेना ने राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में संघर्षविराम का दो बार उल्लंघन किया था। जून के महीने में संघर्षविराम उल्लंघन की 20 घटनाएं, एक बीएटी हमला और घुसपैठ का दो प्रयास हुआ जिसमें तीन जवान सहित चार लोगों की जान गई।

इस बीच भारतीय सेना के चीफ जनरल बिपिन रावत ने पड़ोसी मुल्क की नापाक करतूतों को लेकर कहा कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए भारत के पास सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा कई प्रभावी विकल्प हैं। एक इंटरव्यू में पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) की ओर से दो भारतीय सैनिकों की हत्या और उनके शवों के साथ बर्बरता करने को लेकर आर्मी चीफ ने कहा, “पाकिस्तान का यह मानना है कि यह एक आसान युद्ध है जो उन्हें लाभांश दे रहा है, लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा भी हमारे पास और रास्ते हैं जो कि ज्यादा प्रभावी है। हमारी सेना बर्बरा नहीं है। हमें सिर इकट्ठा करने का शौक नहीं है क्योंकि वह एक सभ्य फौज है।”

देखिए वीडियो - पाकिस्तान ने भारतीय चौकियों पर बरसाई गोलियां, 8 दिन में तोड़ा आठ बार सीजफायर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.