ताज़ा खबर
 

जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने पहली बार पाक उच्‍चायोग से कहा- ले जाओ आतंकी अबू दुजाना की लाश

पुलिस ने दुजाना की बॉडी को दफनाने के लिए आम नागरिकों को सौंपने से इनकार कर दिया है।
मुठभेड़ में मारा गया आतंकी अबु दुजाना। (Source: Social Media)

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने नई दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायोग से लश्कर-ए- तैयबा के आतंकी अबू दुजाना के शव को पाकिस्तान भिजवाने के लिए संपर्क किया है। लश्कर-ए- तैयबा के डिविजनल कमांडर अबू दुजाना को मंगलवार (1 अगस्त) को पुलवामा में हुई एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने मार गिराया था। इंस्पेक्टर जनरल ऑफ कश्मीर पुलिस मुनीर खान ने कहा कि दुजाना की बॉडी को पाकिस्तान भिजवाने के लिए पाकिस्तान उच्चायोग से संपर्क किया गया है। दुजाना पाकिस्तान के गिलगित-बाल्टिस्तान का रहने वाला था। यह ऐसा पहला मौका है जब राज्य की पुलिस ने आतंकी के मारे जाने के बाद सीधे पाकिस्तान को उसका शव ले जाने के लिए कहा हो।

आईजी ने कहा कि अगर पाकिस्तान बॉडी पर अपना दावा नहीं करता है तो हम उसे उचित तरीके से दफनाएंगे। अधिकारियों को उम्मीद थी कि दुजाना के माता-पिता को दफन से पहले अपने बेटे को देखने की इजाजत दी जाएगी। इसी वजह से पाकिस्तान उच्चायोग से संपर्क किया गया। पुलिस ने दुजाना की बॉडी को दफनाने के लिए आम नागरिकों को सौंपने से इनकार कर दिया है।

सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा कि आम लोगों को बॉडी नहीं सौंपने के पीछे कोई कारण नहीं है। इस बीच, मंगलवार को हेलिपोरो गांव में अबू दुजाना के साथ मारे जाने वाले अन्य लश्कर के आतंकवादी आरिफ ललिहारी की अंतिम यात्रा में सैकड़ों लोग शामिल हुए थे। आरिफ को उसके मूल निवास पुलवामा जिले के लालिहार गांव में मंगलवार शाम को दफनाया गया था।

मंगलवार (1 अगस्त) को जम्मू-कश्मीर स्थित पुलवामा के काकापोरा में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों के साथ मुठभेड़ में अबू दुजाना को मार गिराया। उसके साथ ही एक और आतंकी भी मारा गया। सुरक्षाबलों को इस इलाके में लश्कर के कमांडर अबू दुजाना सहित 3 आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी। अबू दुजाना के सिर पर 35 लाख रुपये का इनाम था। वह कई बार सुरक्षाबलों को चकमा दे चुका था। दुजाना करीब 7 साल से कश्मीर में सक्रिय था और आतंकियों की A++ कैटिगरी में था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग