ताज़ा खबर
 

कश्मीर: सेना के जवान की जमकर पिटाई, चोटी काटने का लगाया आरोप

स्थानीय लोगों ने आर्मी जवान पर आरोप लगाया है कि वह उस इलाके में हुई चोटी कटने की घटना में शामिल था।
Author कुपवाड़ा | October 18, 2017 08:13 am
कश्मीर में चोटी कटने की घटना (प्रतिकात्मक फोटो)

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले स्थानीय लोगों ने एक आर्मी जवान की पिटाई कर दी। लोगों ने जवान पर महिला की चोटी काटने का आरोप लगाया है। फिलहाल तो दवान को कुपाड़ा पुलिस के हवाले कर दिया गया है। यह घटना नॉर्थ कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के मेन मार्केट की है। स्थानीय लोगों ने आर्मी जवान पर आरोप लगाया है कि वह उस इलाके में हुई चोटी कटने की घटना में शामिल था।

टाइम्स नाउ की खबर के मुताबिक जवान की बुरी तरह से पिटाई करने के बाद गुस्साए लोगों ने उसे पुलिस को सौंप दिया। पुलिस का कहना है कि उन्होंने इस मामले में रिपोर्ट दायर कर ली है और अब इसकी जांच की जाएगी। पुलिस ने बताया कि कुपवाड़ा के अलावा श्रीनगर और राज्य के कई अन्य हिस्सों में चोटी कटने की घटना हुई थी, लेकिन अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। पुलिस का कहना है कि वह मामले की जांच कर रही है, लेकिन चोटी काटने के पीछे किसका हाथ है यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है।

बता दें कि पिछले महीने राज्य के कई इलाकों से चोटी कटने की करीब 100 घटनाएं सामने आ चुकी हैं। चोटी कटने की घटना से गुस्साए लोग अभी तक कई मासूम लोगों को संदेह के आधार पर पीट चुके हैं, लेकिन अभी तक पुलिस ऐसे किसी भी शख्स को पकड़ने में असफल रही जो असल में इन वारदातों को अंजाम दे रहा है। चोटी कटने की घटना से गुस्साए लोग कश्मीर में कई जगह पर विरोध भी कर रहे हैं।

वहीं पुलिस ने चोटी काटने की घटनाओं में शामिल अपराधियों को पकड़ने में सहायता करने वाले को छह लाख रुपए इनाम देने का भी ऐलान कर रखा है। इससे पहले पुलिस ने तीन लाख रुपए के इनाम की घोषणा की गई थी। पुलिस के एक बयान के मुताबिक, “चोटी काटने की घटनाओं में शामिल किसी भी व्यक्ति के बारे में सूचना देने या उसे पकड़वाने में सहायता करने की राशि दोगुनी कर छह लाख रुपये कर दी गई है। सूचना देने वाले शख्स या लोगों का नाम और अन्य विवरण गोपनीय रखा जाएगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.