ताज़ा खबर
 

आइआरएनएसएस-1ई के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती जारी

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने भारतीय क्षेत्रीय नौवहन उपग्रह प्रणाली (आइआरएनएसएस) श्रृंखला के पांचवें उपग्रह ‘आइआरएनएसएस-1ई’ को ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी-सी31) के जरिए प्रक्षेपित करने की तैयारी पूरी कर ली है।
Author चेन्नई | January 19, 2016 23:20 pm
इसरो ने इससे पहले आइआरएनएसए 1-ए एक जुलाई, 2013 को प्रक्षेपित किया था जबकि आइआरएनएसए 1-बी चार अप्रैल, 2014 को प्रक्षेपित किया गया था। (फाइल फोटो)

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने भारतीय क्षेत्रीय नौवहन उपग्रह प्रणाली (आइआरएनएसएस) श्रृंखला के पांचवें उपग्रह ‘आइआरएनएसएस-1ई’ को ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी-सी31) के जरिए प्रक्षेपित करने की तैयारी पूरी कर ली है। श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र से बुधवार को होने वाला यह प्रक्षेपण साल का पहला रॉकेट प्रक्षेपण होगा । इसरो ने कहा कि यहां से करीब 100 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा से बुधवार सुबह 9:31 बजे ‘आइआरएनएसएस-1ई’ के प्रक्षेपण का समय तय किया गया है। इसके लिए 48 घंटे की उल्टी गिनती सोमवार को शुरू की गई थी। 

पत्रकारों से बातचीत में इसरो के अध्यक्ष एएस किरण कुमार ने कहा, ‘उल्टी गिनती सोमवार को शुरू हुई। यह सुचारू रूप से जारी है। हम बुधवार सुबह 9:31 बजे प्रक्षेपण की उम्मीद कर रहे हैं। सारी तैयारियां कर ली गई हैं।’

‘आइआरएनएसएस-1ई’ आइआरएनएसएस अंतरिक्ष प्रणाली के सात उपग्रहों में से पांचवां नेविगेशन उपग्रह है। अंतरिक्ष यान के पूर्ण संपूरक के प्रक्षेपित हो जाने के बाद यह अमेरिकी जीपीएस के बराबर होगा। ‘आइआरएनएसएस-1ई’ का विन्यास इसके पूर्ववर्ती आइआरएनएसएस-1ए, 1बी, 1सी और 1डी के बराबर है।

इसरो ने बताया कि ‘आइआरएनएसएस-1ई’ अपने साथ दो तरह के पेलोड (अंतरिक्ष उपकरण) लेकर जाएगा जिसमें एक नेविगेशन जबकि दूसरा रेंजिंग पेलोड होगा। नेविगेशिन पेलोड यूजरों को नेविगेशन सेवा से जुड़े सिग्नल भेजेगा और यह ‘एल-5’ और ‘एस’ बैंड में काम करेगा। रेजिंग पेलोड में ‘सी’ बैंड का एक ट्रांसपॉन्डर लगा होगा जिससे उपग्रह की रेंज के बारे में सटीक जानकारी मिल सकेगी।

‘आइआरएनएसएस-1ई’ लेजर के जरिए रेंज का पता लगाने के लिए अपने साथ कॉर्नर क्यूब रेट्रो रिफ्लेक्टर्स भी लेकर जाएगा। अत्यंत सटीक ‘रूबीडियम परमाणु घड़ी’ उपग्रह के नेविगेशन पेलोड का हिस्सा है। उड़ान की शुरुआत के वक्त ‘आइआरएनएसएस-1ई’ का द्रव्यमान 1425 किलोग्राम होगा। आइआरएनएसएस-1ए का प्रक्षेपण एक जुलाई 2013, आइआरएनएसएस-1बी का प्रक्षेपण चार अप्रैल 2014, आइआरएनएसएस-1सी का प्रक्षेपण 16 अक्टूबर 2014 जबकि आइआरएनएसएस-1डी का प्रक्षेपण पिछले साल 28 मार्च को किया गया था ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग