ताज़ा खबर
 

बाल तस्करी के मामले में जूही की गिरफ्तारी के बाद रूपा गांगुली व कैलाश विजयवर्गीय को भेजा जा सकता है समन

पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में बाल तस्करी के एक मामले में भाजपा की स्थानीय महिला नेता जूही चौधरी की गिरफ्तारी और इस मामले में पार्टी की राज्य महिला मोर्चा की अध्यक्ष रूपा गांगुली और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का नाम सामने आने से भाजपा सकते में है।
Author कोलकाता | March 3, 2017 01:38 am
बाल तस्करी मामले की मुख्य अभियुक्त चंदना चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि महिला मोर्चा की महासचिव जूही चौधरी ने संरक्षण गृह के कुछ मुद्दों को सुलझाने के लिए रूपा और विजयवर्गीय से सहायता मांगी थी।

पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में बाल तस्करी के एक मामले में भाजपा की स्थानीय महिला नेता जूही चौधरी की गिरफ्तारी और इस मामले में पार्टी की राज्य महिला मोर्चा की अध्यक्ष रूपा गांगुली और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का नाम सामने आने से भाजपा सकते में है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस मामले की मुख्य अभियुक्त चंदना चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि महिला मोर्चा की महासचिव जूही चौधरी ने संरक्षण गृह के कुछ मुद्दों को सुलझाने के लिए रूपा और विजयवर्गीय से सहायता मांगी थी। इसके बाद पुलिस ने मंगलवार रात भारत-नेपाल सीमा पर स्थित बतसिया से जूही को गिरप्तार किया था। फिलहाल माटीगाड़ा थाने में उससे पूछताछ की जा रही है। खुफिया विभाग इस मामले में पूछताछ के लिए जल्दी ही रूपा, विजयवर्गीय और उनके सचिव को समन भेज सकता है।

दूसरी ओर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने यहां कहा कि पार्टी का लीगल सेल जूही को जमानत पर रिहा कराने का प्रयास करेगा। उन्होंने कहा कि पार्टी फिलहाल जूही को न तो अपराधी मान रही है ना ही बेकसूर। इस मामले में कानून अपना काम करेगा। जलपाईगुड़ी जिले के एक बाल संरक्षण गृह से 17 बच्चों के गायब होने के खुलासे के बाद खुफिया विभाग की जांच से इस गिरोह का पर्दाफाश हुआ था। संरक्षण गृह की प्रमुख चंदना ने इन तमाम घपलों की जिम्मेदारी जूही पर मढ़ दी है। उसने पुलिस को बताया है कि आश्रय नामक इस संरक्षण गृह के लिए केंद्रीय महिला व बाल कल्याण मंत्रालय से 22.5 रुपए लाख का अनुदान हासिल करने के लिए दोनों भाजपा नेताओं-रूपा गांगुली व विजयवर्गीय की सहायता ली थी। सूत्रों के मुताबिक इसके एवज में जूही ने इन दोनों को महंगे उपहार दिए थे।

लेकिन विजयवर्गीय ने यह कहते हुए इन आरोपों का खंडन किया है कि पुलिस अब तृणमूल कांग्रेस के इशारे पर चल कर उनको इस मामले में फंसाने की साजिश रच रही है। दूसरी ओर, खुफिया विभाग का दावा है कि उसके पास चौधरी व विजयवर्गीय के सचिव के बीच हुई बातचीत की आडियो क्लिप है। जांच टीम ने अभियुक्तों के कब्जे से एक डायरी बरामद करने का भी दावा किया है। उसे पता चला है कि जूही ने मुख्य अभियुक्त चंदना के साथ दो फरवरी को दिल्ली का दौरा किया था और वहां कैलाश विजयवर्गीय से मुलाकात की थी।
जूही की गिरफ्तारी के साथ ही इस मामले में अब तक चार लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। इनलोगों पर संरक्षण गृह के जरिए देश व विदेशों में कई बच्चों को गैरकानूनी तरीके से बेचने का आरोप है।

भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा है कि पार्टी अपने स्तर पर इस मामले की जांच कर रही है और जूही के दोषी साबित होने पर उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में कानून अपना काम करेगा। अगर वह दोषी साबित होती है तो पार्टी उसका साथ नहीं देगी। लेकिन फिलहाल हम उसकी जमानत का प्रयास करेंगे। इसकी वजह यह है कि फिलहाल हम नहीं जानते कि वह दोषी है या नहीं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग