ताज़ा खबर
 

सातवें महीने में गर्भपात करा रही थी 19 साल की लड़की, मौत, बॉयफ्रेंड और डॉक्टर हिरासत में

लड़की के माता-पिता को उसकी प्रेग्नेंसी या अस्पताल में भर्ती होने के बारे में कोई जानकारी नहीं थी।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर(Source: Reuters)

हैदराबाद में एक 19 साल की इंजीनियरिंग छात्रा की एक प्राइवेट नर्सिंग होम में गैरकानूनी तरीके से गर्भपात कराने के दौरान मौत हो गई। वह 7 महीने की गर्भवती थी। पुलिस ने सोमवार को इसकी जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने लड़की के पिता की शिकायत के बाद डॉक्टर गिरीजा रानी और बॉयफ्रेंड मधु एस (21) के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। फिलहाल दोनों को कस्टडी में लेकर पूछताछ की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक लड़की अपने बॉयफ्रेंड के साथ 5 अगस्त को गर्भपात कराने अनुषा मैटरनिटी हॉस्पिटल एंड नर्सिंग होम गई थी। डॉ. रानी ने इस प्रक्रिया के लिए 20 हजार रुपये की मांग की थी। वनस्थलीपुरम पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर धरावत विजय ने टीओआई से कहा कि उसे भर्ती करते वक्त एक गोली दी गई थी, जिसके बाद भ्रूण का गर्भपात किया दया। लेकिन लड़की को बहुत ज्यादा ब्लीडिंग हुई और वह बेहोश हो गई। इसके बाद डॉक्टर ने उसके बॉयफ्रेंड से कहा कि उसे दूसरे अस्पताल में भर्ती कराना होगा। लेकिन वहां उसे ‘लाया हुआ मृत’ घोषित कर दिया गया।

इसके बाद सोमवार को उसका शव ओस्मानिया अस्पताल में पोस्ट मॉर्टम के लिए भेज दिया गया। पुलिस ने यह पता लगाने के लिए जिला स्वास्थ्य अधिकारी (डीएमएचओ) का भी रुख किया है कि अस्पताल के पास गर्भपात करने के लिए जरूरी सर्टिफिकेट हैं या नहीं। पुलिस यह भी पता लगा रही है कि क्या डॉक्टर ने इस प्रक्रिया को करते वक्त इंडियन मेडिकल काउंसिल के नियमों का उल्लंघन तो नहीं किया। पुलिस ने बताया कि लड़की इब्राहिमपतनम में इंजीनियरिंग कॉलेज में सेकंड ईयर की स्टूडेंट थी और वह डीएन रेड्डी नगर में एक प्राइवेट हॉस्टल में रहती थी। एक साल पहले वह अपने फोटोग्राफर बॉयफ्रेंड से एक फंक्शन में मिली थी। इसके बाद दोनों रिलेशनशिप में आ गए। लड़की के माता-पिता को उसकी प्रेग्नेंसी या अस्पताल में भर्ती होने के बारे में कोई जानकारी नहीं थी।

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग