December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

हैदराबाद: पैसे की कमी के कारण 60 किलोमीटर तक ठेले पर लेकर गया पत्नी का शव

यह व्यक्ति पैसे की कमी के कारण पत्नी के शव को अपने पैतृक स्थान ले जाने के लिए वाहन किराए पर नहीं ले पाया, तो उसने शव को एक ठेले पर रखकर 60 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय की।

Author हैदराबाद | November 7, 2016 08:45 am
चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

हैदराबाद में दिल को झकझोर देने वाले एक मामले में भीख मांगकर गुजारा करने वाला एक व्यक्ति को अपनी पत्नी का शव 60 किलोमीटर तक ठेले पर ले जाना पड़ा। जानकारी के मुताबिक, यह व्यक्ति पैसे की कमी के कारण पत्नी के शव को अपने पैतृक स्थान ले जाने के लिए वाहन किराए पर नहीं ले पाया, तो उसने शव को एक ठेले पर रखकर 60 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय की, लेकिन दुर्भाग्यवश वह रास्ता भटक गया और अपने गंतव्य स्थान मेडक जिले के बजाय विकाराबाद शहर पहुंच गया। कुष्ठ रोग के मरीज कविता और रामुलू दोनों ही यहां के लैंगर हौज में भीख मांगकर जैसे तैसे गुजारा करते थे। बीमारी के कारण चार नवंबर को 45 वर्षीय कविता की लिंगमपल्ली रेलवे स्टेशन के पास मौत हो गई।

मेडक जिले में मनूर मंडल के रहने वाले रामुलू ने पत्नी की मौत के बाद अपने पैतृक गांव में उसका अंतिम संस्कार करने का फैसला किया और कुछ स्थानीय निजी वाहनों से पत्नी के शव को ले जाने की गुहार की, लेकिन उन्होंने उससे 5,000 रूपए मांगे। विकाराबाद टाउन सर्किल इंस्पेक्टर जी रवि ने बताया, ‘‘रामुलू के पास इतने पैसे नहीं थे कि वह वाहन किराए पर ले पाता, इसलिए उसने कविता के शव को एक हाथगाड़ी पर रखा और उसके साथ चलते हुए बीती दोपहर विकाराबाद पहुंच गया।’’

वीडियो: दिल्ली में बढ़ती धुंध के कारण बढ़ी एयर मास्क की डिमांड

इंस्पेक्टर ने बताया कि कुछ स्थानीय लोगों ने रामुलू को उसकी पत्नी के शव के पास रोते देखकर पुलिस को सूचित किया जिसके बाद एक एंबुलेंस की व्यवस्था की गई और शव को रामुलू के पैतृक स्थान पहुंचाया गया। गौरतलब है कि अगस्त माह में पत्नी के शव को कंधे पर रखकर 12 किमी तक चलने वाले ओडिशा के दाना मांझी की खबर के बाद इस तरह की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। दाना मांझी को कथित तौर पर एंबुलेस ना मिलने के कारण यह कदम उठाना पड़ा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 7, 2016 8:45 am

सबरंग