June 23, 2017

ताज़ा खबर
 

नोएडा सेक्टर 11 में लगी आग के बाद हुई जांच में मिले मानव अंग, डीएनए जांच कराने का दावा

भीषण अग्निकांड की चपेट में आई सेक्टर-11 स्थित एलईडी बल्ब बनाने वाली कंपनी में मलबा हटाने और जांच अभियान बुधवार रात को कुछ समय चलाया गया।

Author नोएडा | April 21, 2017 11:17 am
भीषण अग्निकांड की चपेट में आई सेक्टर-11 स्थित एलईडी बल्ब बनाने वाली कंपनी में मलबा हटाने और जांच अभियान बुधवार रात को कुछ समय चलाया गया।

भीषण अग्निकांड की चपेट में आई सेक्टर-11 स्थित एलईडी बल्ब बनाने वाली कंपनी में मलबा हटाने और जांच अभियान बुधवार रात को कुछ समय चलाया गया। उसके बाद गुरुवार सुबह दोबारा जांच शुरू की गई। जांच में मानव अंगों के कुछ हिस्से मिले हैं। जिन्हें एंबुलेंस के जरिए शवगृह भेजा गया है। पुलिस ने अंगों के नमूनों की डीएनए जांच कराने का दावा किया है। हादसे से बचकर निकले कर्मचारियों ने बताया कि आग की शुरुआत तेज धमाके के साथ हुई थी। पहले कांच फटा और उसके बाद आग तेजी से ट्रांसफॉर्मर की तरफ बढ़ी। कर्मचारियों को इतना भी समय नहीं मिला कि वे भूतल पर खड़े अपने स्कूटर, मोटर साइकिलों को हटा सकें। उधर, हादसे के बाद प्रशासनिक मशीनरी अपने को बेदाग साबित करने की तैयारी में जुट गई है। प्राधिकरण दस्तावेजों के मुताबिक 1980 में भूखंड आवंटित हुआ था। उसके बाद तीन से चार बार इसकी बिक्री हो चुकी है। कंपनी के खिलाफ अग्निशमन विभाग ने गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कराया है। उप श्रमायुक्त बीके राय ने भी कंपनी को नोटिस भेजने का फैसला किया है।

छह लाख रुपए महीने के किराए पर इमारत को एक्सल ग्रीनटेक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के तीन निदेशकों ने दो साल पहले लिया था। प्राधिकरण की तरफ से कंप्लीशन प्रमाणपत्र भी जारी किया गया था। साथ ही अग्निशमन विभाग की भी एनओसी थी। इसके बावजूद खामी प्राधिकरण और अग्निशमन विभाग की सामने आ रही है। बताया गया है कि कंप्लीशन प्रमाणपत्र तब जारी किया जाता है, जब इमारत में सुरक्षा के सभी मानक हो लेकिन प्रमाणपत्र जारी होने के बाद से आज तक दोबारा इसकी जांच नहीं की गई। गुरुवार को कंपनी के बाहर पहुंचे कर्मचारियों ने बताया कि आग लगने पर कुल 12 लोग फंसे थे। जिसमें से दो लोग लिफ्ट में थे।

अभी तक 6 शव मिले हैं। अलबत्ता दिल्ली के सुभद्रा कॉलोनी निवासी पवन शर्मा का अभी तक कुछ पता नहीं चल सका है। जो 6 शव बरामद हुए हैं, उनमें से अभी दो की शिनाख्त नहीं हुई है। जिन की शिनाख्त हुई है, उनके हाथ की घड़ी या कड़े से पहचान की गई है। पवन शर्मा के परिजनों ने थाना सेक्टर- 24 में गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया है। पुलिस अफसरों के मुताबिक जिन दो शवों की शिनाख्त नहीं हुई है, उनकी हालत बेहद खराब है। बगैर डीएनए जांच के कुछ भी कहा नहीं जा सकता है।जिसके चलते शवों का पवन के बेटों के साथ डीएनए जांच कराई जाएगी।

औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने यहां पहुंचे । उन्होंने शहर में करीब 6500 उद्योग स्थापित होने के बावजूद कंप्लीशन प्रमाणपत्र और फायर एनओसी के दस्तावेज नहीं होने पर भी नाराजगी जताई। महाना ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी ने उन्हें भेजा है। मामले की पूरी पड़ताल होगी और दोषी अफसरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। घटना को बेहद दुखद बताते हुए कहा कि विभागों ने अपना काम जिम्मेदारी से नहीं किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on April 21, 2017 1:47 am

  1. No Comments.
सबरंग