December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

डॉप्लर राडार प्रणाली की स्थापना को लेकर कोर्ट ने लगाई BMC को फटकार

बंबई उच्च न्यायालय ने महानगर में डॉप्लर राडार प्रणाली की स्थापना के लिए जगह को अंतिम रूप देने के प्रति बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) के रुख को ‘‘सुस्त’’ करार देते हुए बीएमसी प्रमुख को जोरदार फटकार लगाई।

Author मुंबई | November 30, 2016 16:32 pm

बंबई उच्च न्यायालय ने महानगर में डॉप्लर राडार प्रणाली की स्थापना के लिए जगह को अंतिम रूप देने के प्रति बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) के रुख को ‘‘सुस्त’’ करार देते हुए बीएमसी प्रमुख को जोरदार फटकार लगाई। उच्च न्यायालय के पिछले हफ्ते के निर्देश के अनुरूप बीएमसी आयुक्त अजय मेथा मुख्य न्यायाधीश मंजूला चेल्लूर और न्यायमूर्ति एमएस सोनक की खंडपीठ के समक्ष पेश हुए थे।
मेथा ने अदालत को बताया कि उन्होंने भारतीय मौसम विभाग की ओर से चिह्नित जगह पर प्रणाली की स्थापना के लिए मंजूरी प्रदान कर दी है और अब प्रस्ताव विकास समिति :इंप्रुवमेंट कमिटी: के समक्ष है। इसे इसके बाद अंतिम मंजूरी के लिए बीएमसी की आमसभा में पेश किया जाएगा।बहरहाल, बीएमसी के वकील एसयू कामदार ने इंगित किया कि नगर की पेयजल आपूर्ति के लिए जलाशय बनाने के लिए स्थल के एक हिस्से को अलग कर दिया गया है।

अदालत ने यह जानना चाहा कि इस मुद्दे पर चर्चा के लिए समिति की बैठक कब होगी। न्यायमूर्ति चूल्लूर ने कहा कि अदालत चाहती है कि बैठक तुरंत हो और यह सुनिश्चित किया जाए कि मौसम विभाग के अधिकारियों को भी बैठक में शामिल किया जाए। अदालत ने कहा कि उसे अपेक्षा है कि बीएमसी प्रमुख यह बैठक यथाशीघ्र कराने के हर प्रयास करेंगे। अदालत इस मामले में अब अगले सप्ताह सुनवाई करेगा।
अदालत ने कहा कि अगर बीएमसी आयुक्त इस मुद्दे पर कोई फैसला करने में अक्षम हैं तो वह शहरी विकास विभाग के सचिव को उपस्थिति होने के लिये कहेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 30, 2016 4:31 pm

सबरंग