ताज़ा खबर
 

हरियाणा के इन दो गांवों के नाम है इतने ‘अजीब’ की बदलने की आ गई नौबत, केंद्र ने दी अनुमति

हरियाणा सरकार ने हाल ही में स्थानीय निवासियों की मांग पर दोनों गांवों के नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा था।
हरियाणा सरकार ने हाल ही में स्थानीय निवासियों की मांग पर दोनों गांवों के नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा था। (Photo: PTI)

केंद्र सरकार ने हरियाणा दो गावों के नाम बदलने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। अब हरियाणा सरकार फतेहाबाद जिले के गांव ‘गंदा’ और हिसार जिले के गांव ‘किन्नर’ का नाम बदल देगी। पीटीआई के मुताबिक, हरियाणा सरकार गांव ‘गंदा’ का नाम बदलकर अजीत नगर और किन्नर गांव का नाम बदलकर गैबी नगर करने पर विचार कर रही है। इसके साथ ही हरियाणा सरकार ने जिला महेन्द्रगढ़ के गांव चामघेडा का नाम बदलकर देवनगर करने का निर्णय लिया है।

हरियाणा सरकार ने हाल ही में स्थानीय निवासियों की मांग पर दोनों गांवों के नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा था। स्थानिय निवासियों का कहना था कि उन्हें अपने गांव के नाम के कारण शर्मिंदगी महसूस होती है। यह मामला प्रकाश में तब आया था, जब आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा हरप्रीत कौर ने पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर मांग की थी कि उसके गांव ‘गंदा’ के कारण उसे कई बार शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।

हरप्रीत को स्कूल से लेकर दूसरे गांव के लोग भी चिढ़ाया करते थे। इससे आहत होकर हरप्रीत ने एक दिन प्रधानमंत्री कार्यालय को चिट्ठी लिख दी। हरप्रीत ने चिट्ठी में गांव के नाम के कारण होने वाली परेशानी का विस्तार से जिक्र किया। हालांकि, पहली बार हरप्रीत को सफलता नहीं मिली, लेकिन हरप्रीत ने इस मामले को एक मुहिम के रूप में लिया और लगातार पीएमओ को पत्र लिखती रही। आखिरकार हरप्रीत की मेहनत रंग लाई और पीएमओ ने इस गांव का नाम बदलने की अपनी सहमति दे दी।

वहीं काफी समय से किन्नर गांव के लोग भी नाम बदलने लेकर हरियाणा सरकार से मांग कर रहे थे। गांव वालों का कहना है कि किन्नर नाम की वजह से युवा पीढ़ी को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। लेकिन अब सरकार ने नाम बदलने की मंजूरी दे दी है तो इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है।

देखिए वीडियो - हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर का विवादित बयान- “शहीद वे होते हैं जो सीमा पर मरते हैं, न कि आत्महत्या करने वाले”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग