ताज़ा खबर
 

प्रद्युम्‍न मर्डर: रेयान ने रखा है 5-6 लाख रुपए फीस लेने वाला वकील, दी केस हर‍ियाणा से बाहर ले जाने की दलील

सात साल के बच्चे प्रद्युम्न की स्कूल की टॉयलेट में चाकू से हमला करके हत्या कर दी गई थी, इसके बाद पुलिस ने बस कंडक्टर को गिरफ्तार किया था।
साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या के बाद स्‍कूल परिसर के बाहर अभिभावकों ने विरोध प्रदर्शन किया था। (Photo: PTI)

रेयान स्कूल ने सुप्रीम कोर्ट का रूख कर सात साल के बच्चे प्रद्युम्न की हत्या के मामले की सुनवाई सोहणा स्थित स्थानीय अदालत से बाहर स्थानांतरित करने का अनुरोध किया है। रेयान समूह के एक अधिकारी ने आरोप लगाया कि बार एसोसिएशन ने इस सनसनीखेज मामले में आरोपी की पैरवी करने से वकीलों को प्रतिबंधित कर दिया है। इसलिए इस केस की सुनावई हरियाणा से बाहर की जाए। इसके लिए रेयान स्कूल प्रबंधन ने सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी को हायर किया है। लीगली इंडिया रिपोर्ट/ 2015 के मुताबिक केटीएस तुलसी की सुप्रीम कोर्ट में फीस 5-6 लाख रुपये है, जबकि हाई कोर्ट में 8-9 लाख रुपये है।

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अमिताव रॉय और न्यायमूर्ति ए. एम. खानविलकर की पीठ ने वरिष्ठ वकील के टी एस तुलसी की इस दलील पर विचार किया कि अपनी पसंद के वकील के जरिए पैरवी करवाने के एक व्यक्ति के मौलिक अधिकार का उल्लंघन हो रहा है। पीठ ने रेयान समूह के उत्तरी जोन के प्रमुख फ्रांसिस थॉमस के वकील को आश्वासन दिया है कि वह 18 सितंबर को याचिका पर सुनवायी करेगी। गत शुक्रवार को स्कूल में एक छात्र की हत्या के संबंध में थॉमस को सोमवार को गिरफ्तार किया गया।

तुलसी ने आरोप लगाया कि हरियाणा में सोहणा तथा गुडगांव के बार एसोसिएशनों ने अपने सदस्य वकीलों से कहा है कि वे सात वर्षीय प्रद्युमन की नृशंस हत्या के आरोपी या किसी व्यक्ति की पैरवी ना करें। तुलसी ने कहा, ‘अनुच्छेद 21 (जीवन और निजी स्वतंत्रता के अधिकार) के तहत मौलिक अधिकार का उल्लंघन किया जा रहा है।’ उन्होंने उच्चतम न्यायालय इस मामले की सुनवायी को हरियाणा में सोहणा के बाहर स्थानांतरित करने पर विचार करने का अनुरोध किया।

राम जेठमलानी, कपिल सिब्‍बल, पी. च‍िदंबरम, शांति भूषण जैसे नामी वकीलों की क्‍या है फीस, जानिए

भारत के जाने-माने अधिवक्ता हरीश साल्वे कुलभूषण जाधव की सजा पर अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में भारत का पक्ष रखा। एक सुनवाई के लिए लाखों रुपए लेने वाले साल्वे जाधव के लिए सिर्फ एक रुपए में केस लड़ रहे हैं। साल्वे भारत के सबसे महंगे वकीलों में शुमार किए जाते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक साल्वे हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट दोनों के लिए 6-15 लाख रूपए प्रति सुनवाई फीस लेते हैं। उनके क्लाइंट्स में सलमान खान, मुकेश अंबानी, ललिल मोदी, मुलायम सिंह यादव, मायावती, अमरिंदर सिंह, प्रकाश सिंह बादल जैसे लोग शामिल हैं।

गौरतलब है कि गुड़गांव स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल के शौचालय में आठ सितंबर की सुबह दूसरी कक्षा के छात्र प्रद्युमन की गला काटकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने आरोप लगाया कि 42 वर्षीय बस कंडक्टर अशोक कुमार ने बच्चे का यौन शोषण करने की कोशिश की लेकिन बच्चे द्वारा इसका विरोध करने पर उसने चाकू से उसकी हत्या कर दी। सुप्रीम कोर्ट इस संबंध में प्रद्युमन के पिता और न्यायालय की दो महिला वकीलों की याचिकाओं पर भी सुनवायी कर रहा है। लड़के के पिता ने इस मामले की जांच सीबीआई या एसआईटी से कराने की मांग की है जबकि महिला वकीलों ने बाल सुरक्षा की शर्तों को कठोर बनाने और देशभर में स्कूल जाने वाले बच्चों की यौन शोषण और हत्या जैसे अपराधों से रक्षा करने के लिए मौजूदा दिशा निर्देशों को लागू करने मांग की है। लापरवाही बरतने वाले स्कूलों को राज्य से मिलने वाला अनुदान जब्त करने तथा उनके लाइसेंस रद्द करने की मांग करने वाली याचिका पर अदालत छात्र के पिता की याचिका के साथ 15 सितंबर को सुनवायी करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.