ताज़ा खबर
 

ईद की खरीदारी कर लौट रहे मुस्लिम युवकों को पीटा, फिर चलती ट्रेन से फेंका, एक की मौत, तीन जख्मी

पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि जब उन लोगों ने पुलिस से मदद मांगी तो उन लोगों ने भी उनके अनुरोध को ठुकरा दिया।
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

देश में धार्मिक उन्माद और हिंसा की घटनाएं फिर बढ़ने लगी हैं। इसी तरह की घटना में दिल्ली से हरियाणा जाने वाली ट्रेन में गुरुवार की रात पैसेंजर्स की हैवानियत देखने को मिली। नफरत भरी कार्रवाई में उन्मादी भीड़ ने चार मुस्लिम युवकों की न केवल जमकर पिटाई कर दी बल्कि उसे चलती ट्रेन से नीचे भी फेंक दिया। इस घटना में एक किशोर की मौत हो गई जबकि तीन लोग जख्मी हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। मारे गए किशोर का नाम जुनैद है। बाकी तीन लोग हासिब, शकीर और मोहसिन घायल हैं। यह वाकया दिल्ली से मात्र 20 किलोमीटर दूर जाने के सफर के दौरान हुआ।

एनडीटीवी के मुताबिक सभी लोग दिल्ली में ईद की खरीदारी कर अपने-अपने घर लौट रहे थे। ट्रेन में सीट को लेकर हुए विवाद ने हिंसक रूप ले लिया। एफआईआर दर्ज कराने वाले हासिब (जुनैद के भाई) ने आरोप लगाया है कि पहले तो उन लोगों ने मजहब के नाम पर गालियां दीं और जब विरोध किया तो मारने पर उतारू हो गए। इसके बाद वहां कई लोग जमा हो गए और सबने हम चारों को पीटना शुरू कर दिया। इसके बाद उनलोगों ने बल्लभगढ़ के पास दिल्ली से 20 किलो मीटर दूर असावटी स्टेशन पर ट्रेन से नीचे फेंक दिया।

उन्मादी भीड़ ने चार मुस्लिम युवकों की न केवल जमकर पिटाई कर दी बल्कि उसे चलती ट्रेन से नीचे भी फेंक दिया।

मोहसिन ने बताया कि इस दौरान हमारे चचेरे भाई ने चेन पुलिंग की कोशिश की लेकिन ट्रेन नहीं रुकी। पीड़ितों ने आरोप लगाया है कि जब उन लोगों ने पुलिस से मदद मांगी तो उन लोगों ने भी उनके अनुरोध को ठुकरा दिया। इस घटना की वीभत्स स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि ट्रेन के डब्बे में खून बिखरे हुए थे। पुलिस ने अभी तक एक शख्स की गिरफ्तारी की है। ट्रेन में कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा था, इसलिए पुलिस को कार्रवाई करने में कठिनाई सामने आ रही है।

हासिब ने एनडीटीवी को बताया कि हमलावर भीड़ में से कोई बार-बार हमें मांस खाने वाला बता रहा था और भीड़ को उकसा रहा था। आज (23 जून को) ही कश्मीर के नौहट्टा में भी भीड़ ने मस्जिद के बाहर एक डीएसपी की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग