ताज़ा खबर
 

हरियाणा की गौशाला में 25 गायों की मौत, रहने और खाने की नहीं थी बराबर व्यवस्था

गौशाला में लगभग 600 गायें थीं। इतनी बड़ी संख्या में पशुओं के लिए चारे और पानी की बराबर व्यवस्था भी नहीं थी।
प्रतीकात्मक फोटो। (Source: Nirmal Harindran)

हरियाणा में मथाना गांव के गौशाला में भारी बारिश और चारे की कमी के चलते 25 गायों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि भारी बारिश के चलते गौशाला में पानी भर गया। जल निकासी की बराबर व्यवस्था ना होने से पूरा मैदान कीचड़नुमा हो गया। कई गायों ने उस कीचड़ में फंस कर अपनी जान गंवा दी। बहुत सी गायों की हलत नाजुक बनी हुई है। मथाना गंव की प्रधान ने मीडिया को बताया कि गौशाला में बारिश से निपटने का इंतजाम नहीं ता इस कारण ये घटना घटी। वहीं हरियाणा गाौ सेवा कमीशन के अधिकारियों ने भी जानकारी मिलने पर मथाना का दौरा किया। कमीशन के अधिकारियों ने बताया कि जो गायें वहां फंसी हुई थीं उन्हें प्रदेश के दूसरे गौशालाओं में शिफ्ट किया जा रहा है। गौशाला के पूर्व प्रमुख अशोक पपनेजा के मुताबिक गौशाला में लगभग 600 गायें थीं। इतनी बड़ी संख्या में पशुओं के लिए चारे और पानी की बराबर व्यवस्था भी नहीं थी।

 

गौशाला की देखभाल का जिम्मा ग्राम पंचायत और जिले के एनिमल हसबैंडरी विभाग के पास रहता है। एनिमल हसबैंडरी विभाग के अधिकारियों के अनुसार यहां पर गायों के लिए सारी सुविधाएं हैं, लेकिन दुर्भाग्यवश भारी बारिश के चलते 25 से 30 गायों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Abu talib
    Jul 8, 2017 at 12:07 am
    ओ देखे पंडित ज्ञानी ध्यानी दया धरम के बन्दे ! राम नाम जप देंदे खांदे गौ के चंदे !!
    Reply
  2. M
    Mahendra Tiwari
    Jul 7, 2017 at 10:23 pm
    कहा है गौ रक्षक? गौ माता के नाम पर मुसलमानो और दलित लोगों पर अत्याचार करते हो. धर्म के विरुद्ध कृत हैं और अपने आपको धर्म के ठेकेदार समझते हो. क्या खूब कहा है शायर इक़बाल ने " न समझोगे तो मितजाओगे ए हिंदुस्तान वालों, तुम्हारी दास्तान भी न होगी नो में." मैं भ्रह्मिन हूँ, मेरे मित्र अगर मेरे साथ बैठकर बीफ कहते हैं तो भी मुझे कोई आपत्ति नहीं है. हमारे देश को बर्बाद करना छाती है यह बीजेपी और संघ परिवार.
    Reply
  3. B
    bitterhoney
    Jul 7, 2017 at 7:13 pm
    गौरक्षक कहाँ मर गए. क्यों नहीं मुख्यमंत्री खट्टर को पीट पीट कर मार डालते? खट्टर २५ गायों का हत्त्यारा है.खट्टर को मार कर भूखे कुत्तों के सामने डाल देना चाहिए.
    Reply
सबरंग