ताज़ा खबर
 

रयान स्कूल हत्याकांड: पीड़ित परिवार से मिले सीएम खट्टर, CBI को सौंपी गई जांच, स्कूल का टेकओवर

सीएम खट्टर ने कहा कि गुरुग्राम स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल का राज्य सरकार तीन महीने के लिए टेकओवर कर रही है।
प्रद्युमन के घर पहुंचे सीएम एम एल खट्टर (फोटो-एएनआई)

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर आज (15 सितंबर) गुरुग्राम में रयान स्कूल में मारे गये छात्र प्रद्युमन के परिवार वालों से मिले। मनोहर लाल खट्टर ने इस केस की जांच सीबीआई से करवाने का भरोसा दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि गुरुग्राम स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल का राज्य सरकार तीन महीने के लिए टेकओवर कर रही है। अब तीन महीने के लिए इस स्कूल का प्रबंधन राज्य सरकार के हाथों में होगा। रयान स्कूल मेंं प्रद्युमन की हत्या के बाद उसके माता-पिता हरियाणा पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं हैं, और पूरे मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग कर रहे हैं। हरियाणा सरकार ने उनकी मांग पर संज्ञान लिया। सीएम खट्टर ने कहा कि इस मामले में दोषियों को कतई नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने प्रद्युमन के परिवार को निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया। बता दें कि सीएम मनोहर लाल खट्टर रयान इंटरनेशनल स्कूल हत्याकांड के लगभग एक हफ्ते बाद पीड़ित परिवार के घर पहुंचे हैं। 8 सितंबर को गुरुग्राम के रयान इंटरनेशनल स्कूल में सुबह लगभग सवा आठ बजे प्रद्युमन के पिता को स्कूल से फोन आया था कि उसके बेटे का गला काट दिया गया है। बाद में अस्पताल में प्रद्युमन को मृत घोषित कर दिया था।

इस मामले में गिरफ्तार स्कूल बस कंडक्टर अशोक की भूमिका शुरू से ही संदेह के घेरे में रही है। अशोक के वकील ने कहा है कि वो बेकसूर है और पुलिस ने दबाव डालकर उसे हत्या कबूलने का बयान दिलवाया है। अशोक के वकील का दावा है कि कुछ बड़े लोगों को बचाने के लिए उसके मुवक्किल को फंसाया जा रहा है। अशोक के परिवार वाले भी कह चुके हैं वो हत्या जैसी जघन्य वारदात कभी नहीं कर सकता है। प्रद्युमन के माता-पिता भी इस मामले में अशोक के अलावा किसी और की भूमिका भी देख रहे हैं।

प्रद्युमन के पिता वरुण ने समाचार एजेंसी आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में कहा कि इस पूरे मामले में स्कूल की लापरवाही सामने आई है। स्कूल ने शुरू से ही ऐसा बर्ताव किया, जैसे यह कोई छोटी-मोटी घटना हो। इस घटना की पूरी जवाबदेही स्कूल प्रबंधन की बनती है। वह कहते हैं, “मैं रोजाना स्कूल के भरोसे अपने बच्चे को छोड़कर आता था। कोई पिता सोच भी कैसे सकता है कि स्कूल में बच्चे की हत्या हो सकती है!” यह पूछने पर कि उन्हें घटना की जानकारी कब और किससे मिली, वरुण कहते हैं, “मुझे स्कूल के रिसेप्शन से फोन आया था, जिसमें मुझे स्कूल की सेक्शन इंचार्ज से बात करने को कहा गया। तब मुझे बताया गया कि बच्चा बाथरूम के पास गिरा हुआ मिला है और उसका खून बह रहा है। मुझे तुरंत आने को कहा गया। मैं रास्ते में था, तभी दोबारा फोन आया कि ‘हम बच्चे को लेकर अस्पताल जा रहे हैं, आप वहीं आ जाइए’.. उस वक्त भी मैंने यही सोचा कि छोटी-मोटी चोट आई होगी, लेकिन अस्पताल में डॉक्टर ने बताया कि बच्चा मृत अवस्था में यहां लाया गया था।”

क्या शुरू से ही इस घटना की लीपापोती की गई? वरुण कहते हैं, “मैंने भी मीडिया के जरिए ही सुना है कि बाथरूम के पास खून के धब्बों को साफ किया गया। स्कूल ने जवाबदेही से भी पल्ला झाड़ लिया। पुलिस से भी खास सहयोग नहीं मिला। कई बार ऐसा लगा कि मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की जा रही है। प्रद्युमन की हत्या के बाद बिहार के मधुबनी जिले के रहने वाले उसके माता पिता वरुण ठाकुर और ज्योति ठाकुर की जिंदगी पूरी तरह से बदल गई है। प्रद्युमन की मां अब बदहवास सी है और बेटे को अक्सर याद कर बेचैन हो जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. E
    Employ Ment
    Sep 15, 2017 at 6:45 pm
    🔴🆓रोजगार योजना🆓🔴 ✔मोदी जी द्वारा चलाए गए डिजिटल इन्डिया से जुड़े और कमाए 15,000 - 20,000 रुपए महीना ✔अब कोई नही रहेगा बेरोज़गार और नही करेगा कोई बेरोज़गार आत्महत्या ✔क्योंकि अब आ गई है 21वीं सदी की सबसे बड़ी रोज़गार क्रांति ✔हमारा सपना पूरे भारत को ही नही पूरी दुनिया को डिजिटल इंडिया से जोड़ना ✔सबका साथ सबका विकास ➡शुरुवात कैसे करे ✔ - को प्ले स्टोर से इन्स्टल करे, और साइन अप करे, $1 डॉलर बोनस स्पौन्सर 🆔: ➡चैलेंज को पूरा करे ➡और इंकम करनी शुरू करे 👉🏻इसे जरूर नोट कर ले👉🏻 स्पौन्सर 🆔: . . . . . . . . Hhsgshusisj
    (0)(0)
    Reply