ताज़ा खबर
 

रेयान स्कूल के सीईओ ने कहा- जांच से पहले दोषी मत ठहराओ, झूठे आरोपों के आगे नहीं झुकेंगे

प्रदर्शन कर रहे लोगों का आरोप है कि स्कूल से 50 मीटर की दूरी पर ही शराब का ठेका है जहां स्कूल के कर्मचारी अक्सर शराब पीते थे।
मारे गए बालक प्रद्युम्न के पिता।

रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात सात के छात्र की हत्या के बाद स्कूल अब एक नए विवाद में फंसता नजर आ रहा है। स्कूल के प्रबंधन की गिरफ्तारी की मांग कर रहे लोगों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया है। रिपोर्ट के अनुसार लोगों ने प्रदर्शन स्थल के पास के कई शराब के ठेको पर आग लगा दी। जिसके बाद पुलिस ने बल प्रयोग किया जिसमें करीब 50 लोग घायल हो गए हैं। कई पत्रकारों को भी चोट आई है साथ ही उनके कैमरे भी इस हमले में टूट गए हैं। पुलिस ने मीडिया को दी जानकारी में बताया कि स्कूल के पास मुश्किल से 50 मीटर दूरी पर स्थित शराब के ठेके पर लोगों ने हमला कर दिया और कुछ शराब के बोतल स्कूल की तरफ भी फेंकी हैं। हालांक गुड़गांव पुलिस कमीश्नर संदीप खिरवाड़ ने मीडियाकर्मियों पर लाठीचार्ज की बात को गलत बताया है।
तो वहीं प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पुलिस पर बिना किसी कारण लाठीचार्ज करने का आरोप लगाया है।

एक प्रदर्शनकर्ता ने मीडिया से कहा कि,” हम स्कूल के बाहर शांति से प्रदर्शन कर रहे थे तभी पुलिस ने बिना किसी उकसावे के लाठीचार्ज शुरू कर दिया। प्रदर्शन कर रहे लोगों सीबीआई को इस केस को सौंपने तक स्कूल को बंद करने की मांग कर रहे हैं। साथ ही उनका आरोप है कि ड्राइवर और कंडेक्टर खाली समय में अक्सर पास के शराब के ठेके पर शराब पीते थे। हालांकि हरियाणा सरकार में शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने बयान देते हुए कहा कि रेयान इंटरनेशनल स्कूल के प्रबंधन और मालिक के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार इस केस को सीबीआई को सौंपने के खिलाफ नहीं है। उन्होने कहा कि रेयान इंटरनेशनल स्कूल द्वारा की गई लापरवाही को स्वीकार करते हैं लेकिन हम वहां पढ़ने वाले 1200 बच्चों के भविष्य को नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं। ये सारा केस तब शुरू हुआ जब शुक्रवार सुबह 8 साल के क्लास 2 में पढ़ने वाले प्रद्युम्न की स्कूल की टॉयलेट में हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इस मामले में स्कूल बस का कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.