ताज़ा खबर
 

तेजी से ‘उड़ता हरियाणा’, छह सालों में नशा करने वालों की संख्या चार गुना बढ़ी

पिछले कुछ सालों के सरकारी आंकड़े ही इस स्याह तस्वीर के गवाह हैं कि साल दर साल नशे की दुकानों पर अपनी जवानी बर्बाद करने वाले युवाओं की कतार बढ़ती ही जा रही है।
Author चंडीगढ़ | April 12, 2017 03:42 am
हुक्के से शुरू नशा कोरेक्स जैसी खांसी की दवाओं से होते हुए नशे के टीकों तक कब पहुंच जाता है, पता ही नहीं चलता। ( representative picture)

संजीव शर्मा

हिंदी फिल्मों ‘दंगल’ और ‘सुल्तान’ को अखाड़ों के ग्लैमर से चुंधियाए हरियाणा राज्य के कथित सरपरस्तों को शायद यह नजर नहीं आ रहा कि उनकी अगली पौध अखाड़ों की मिट्टी में हड्डियां मजबूत करने की बजाय अपना ज्यादा समय मयखानों की मस्ती में मशगूल हो रही है। ‘देसां में देस हरियाणा जित दूध दहीं का खाणा…’ गए दिनों की बात हो गई है। महाभारत काल में हरियाणा को मिली यह पहचान अब नशे के अड्डों पर मटियामेट हो रही है।  पिछले कुछ सालों के सरकारी आंकड़े ही इस स्याह तस्वीर के गवाह हैं कि साल दर साल नशे की दुकानों पर अपनी जवानी बर्बाद करने वाले युवाओं की कतार बढ़ती ही जा रही है। हैरानी इस बात की है कि सरकार को युवा पीढ़ी को नशे के शिकंजे से बचाने के लिए कोई नीति तक बनाने की फुरसत नहीं है। आदर्श नैतिक मूल्यों की बात करने वाली खाप पंचायतें भी इस मुद्दे को अभी तक नजरअंदाज ही करती रही हैं। हुक्के से शुरू नशा कोरेक्स जैसी खांसी की दवाओं से होते हुए नशे के टीकों तक कब पहुंच जाता है, पता ही नहीं चलता। आंख तब खुलती है जब उनकी अगली सुबह नशामुक्ति केंद्र में होती है।

अभी तक तो युवाओं में तेजी से बढ़ रहे नशों के रूझान के लिए राज्य के राजनीतिक नेताओं द्वारा पड़ोसी राज्यों की सरकारों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया जाता रहा है। क्योंकि करीब 2.50 करोड़ की आबादी वाला हरियाणा ऐसा प्रांत है जिसके 21 में से 18 जिले पड़ोसी राज्यों से सटे हुए हैं। दिलचस्प यह है कि प्रदेश में दस साल तक सत्ता में रही कांग्रेस और तीन साल से सत्ता पर काबिज भाजपा ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए किसी भी पड़ोसी राज्य के साथ कोई संयुक्त अभियान नहीं चलाया। इसका ताजा उदाहरण कुछ माह पहले कुरुक्षेत्र में हुई पुलिस भर्ती के दौरान देखने को मिला। जहां शारीरिक प्रशिक्षण के दौरान दर्जनों युवाओं द्वारा नशीले पदार्थों का प्रयोग किए जाने का मामला सामने आया। इससे चारअभ्यार्थियों की मौत भी हो गई थी।

कौन हैं कुलभूषण जाधव? जानिए क्या हैं उन पर आरोप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग