ताज़ा खबर
 

हरियाणा में नए सिरे से आरक्षण आंदोलन की तैयारी में जाट

हरियाणा के जाट संगठनों ने मनोहर लाल खट्टर सरकार पर आरक्षण की अपनी मांग को पूरा नहीं करने का आरोप लगाते हुए राज्य के 19 जिलों में फिर से आंदोलन करने की चेतावनी दी है।
Author गुड़गांव | January 24, 2017 01:20 am

हरियाणा के जाट संगठनों ने मनोहर लाल खट्टर सरकार पर आरक्षण की अपनी मांग को पूरा नहीं करने का आरोप लगाते हुए राज्य के 19 जिलों में फिर से आंदोलन करने की चेतावनी दी है। पिछले वर्ष इस मुद्दे पर व्यापक विरोध प्रदर्शन हुए थे। गुड़गांव पुलिस के पीआरओ मनीष सहगल ने कहा कि पुलिस इन प्रदर्शनों से निपटने को तैयार है और इसके लिए रविवार को एक मॉक ड्रिल भी किया गया। आंदोलन अगले हफ्ते से शुरू करने की योजना है और जाट नेताओं का दावा है कि उन्हें हरियाणा और दिल्ली के करीब 250 गांवों के लोगों का समर्थन हासिल है। नेताओं ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर आरक्षण की मांगों को पूरा नहीं करने के आरोप लगाया है जिसके लिए पिछले वर्ष उन्होंने बड़ा आंदोलन चलाया था। अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के प्रमुख यशपाल मलिक ने कहा कि हम पिछले 11 महीने से कई गांवों में व्यक्तिगत स्तर पर पंचायत लगा रहे हैं ताकि अन्य पिछड़ा वर्ग में शामिल होने के लक्ष्य को प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि समुदाय आरक्षण हासिल करने के लिए किसी भी चुनौती का सामना करने को तैयार है। उन्होंने आरोप लगाया कि हरियाणा की भाजपा सरकार ने पिछली बार जाटों को धोखा दिया।

मलिक ने कहा- हरियाणा की भाजपा सरकार और केंद्र ने पिछली बार हमसे धोखा किया और प्रदर्शन खत्म करने के लिए हमसे झूठे वादे किए। उन्होंने युवकों को निजी और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने के फर्जी मामले में फंसाया। उन्होंने दावा किया कि उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर, बड़ौत और बागपत जिले के जाटों ने निर्णय किया है कि अगले महीने होने वाले राज्य विधानसभा चुनावों में भाजपा को वोट नहीं देंगे। जाट समुदाय के नेताओं के प्रदर्शन की चेतावनी के मद्देनजर पुलिस ने किसी अप्रिय घटना को टालने और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने से रोकने के प्रयास तेज कर दिए हैं।
हरियाणा के एडीजीपी (कानून-व्यवस्था) मोहम्मद अकील ने कहा कि उन्होंने हर जिले के शीर्ष अधिकारियों को निर्देश दिया है कि किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहें और सुनिश्चित करें कि सड़क और रेल मार्ग बाधित नहीं किए जाएं। राज्य में कानून-व्यवस्था को बनाए रखना हमारा मुख्य मकसद है और किसी भी घटना से निपटने के लिए संवेदनशील जिलों में हम पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात करेंगे।

गुड़गांव के पुलिस आयुक्त संदीप खिरवार ने भी वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को भी निर्देश दिया कि जाट आंदोलन के लिए तैयार रहें। आंदोलन 19 जिले में करने की योजना है जिनकी पृष्ठभूमि मुख्यत: ग्रामीण है। इन जिलों में रोहतक, सोनीपत, भिवानी, कुरुक्षेत्र, महेंद्रगढ़, पानीपत, हिसार, जींद, कैथल और फतेहाबाद शामिल हैं। पिछले वर्ष के आंदोलन से दिल्ली पर ज्यादा प्रभाव पड़ा था क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रीय राजधानी में जलापूर्ति काट दी थी और हरियाणा में बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग