December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

मनोहर लाल खट्टर ने कहा, पानी को बनाया जाए राष्ट्रीय संपदा 

सतलज यमुना लिंक नहर पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को लागू करने के बारे में अपनी बात रखने के लिए राज्य का एक सर्वदलीय शिष्टमंडल 28 नवंबर को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिलेगा।

Author नई दिल्ली | November 28, 2016 03:27 am
मनोहर लाल खट्टर

सतलज यमुला लिंक नहर के बारे में सुप्रीम कोर्ट के फैसले की पृष्ठभूति में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पानी किसी एक प्रदेश तक सीमित नहीं होता और इसे राष्ट्रीय संपदा बनाया जाना चाहिए।  उन्होंने अपने दो वर्षों के कार्यकाल को पारदर्शी और व्यवस्था परिवर्तन करने वाला बताया।  मुख्यमंत्री ने बताया कि सतलज यमुना लिंक नहर पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को लागू करने के बारे में अपनी बात रखने के लिए राज्य का एक सर्वदलीय शिष्टमंडल 28 नवंबर को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिलेगा। खट्टर ने यहां एक कार्यक्रम से इतर बातचीत में कहा कि पानी एक ऐसा विषय है जो किसी एक प्रदेश तक सीमित नहीं होता और इससे अनेक क्षेत्र जुड़े होते हैं। चाहे दिल्ली-हरियाणा हो, हरियाणा-पंजाब हो, दिल्ली, उत्तरप्रदेश हो या हरियाणा, हिमाचल प्रदेश हो । उन्होंने कहा, ‘पानी को राष्ट्रीय संपदा बनाया जाना चाहिए और जिन जिन प्रदेशों की जो जरूरतें हों। उनकी आवश्यकता की पूर्ति की जानी चाहिए।’ दिल्ली और हरियाणा के बीच पानी के मुद्दे  के बारे में एक सवाल के जवाब में हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली की पानी की आश्वयकता आज वैसी नहीं रह गई है, जैसी पहले थी। दिल्ली की आबादी काफी बढ़ गई है। अब दिल्ली को पानी की आवश्यकता की पूर्ति के लिए अन्य प्रदेशों से जुड़ना चाहिए, केवल हरियाणा पर पानी की निर्भरता से कठिनाइयां बढ़ेंगी। खट्टर ने कहा कि हरियाणा की कई बार जाड़े और गर्मियों में परेशानी बढ़ जाती है। ‘पानी की आपूर्ति के लिए प्रदेशों को आगे आना चाहिए। चाहे उत्तरप्रदेश हो, हिमाचल प्रदेश हो या पंजाब।’

प्रदेश में भाजपा सरकार के दो वर्षो के कामकाज के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘दो वर्षों के कामकाज से हमें इस बात की संतुष्टि है कि हमने पारदर्शी शासन दिया है। हम जो करते हैं, वही बताते हैं, नहीं कर सकने वाली बात कहते ही नहीं हैं।’ हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने पिछले दो वर्षों में प्रदेश में व्यवस्था परिवर्तन करने का काम किया है। आज एक क्लिक में 32 हजार शिक्षकों का स्थानांतरण किया गया और 95 फीसद शिक्षक इससे संतुष्ट हैं। हमने नौकरियों में साक्षात्कार में भ्रष्टाचार को खत्म किया है।हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि आज सिपाही की भर्ती में पूरी पारदर्शिता है। जबकि पहले हम क्या-क्या किस्से सुनते थे। ‘हमने ई-प्रशासन पर पूरा जोर दिया है। उन्होंने कहा कि बुजुर्गो के लिए पेंशन की सुविधा को हमने व्यवस्थित और प्रौद्योगिकी आधारित बनाया है। आज सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीसी) में पूरी पारदर्शिता आ गई है।
खट्टर ने कहा कि हमने गलत काम करने वालों पर लगाम लगाई है। सरस्वती नदी की खोज के बारे में एक सवाल के जवाब में हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि हम राज्य में पुरातात्विक महत्व के स्थानों व चीजों की खोज के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण से सहयोग लेंगे। उन्होंने कहा कि हम हड़प्पा संस्कृति से जुड़े राखीगढ़ क्षेत्र में पुरातात्विक खोज के लिए खुदाई करने की पहल कर रहे हैं ताकि उस काल के अवशेष प्राप्त कर सकें। साथ ही इस क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से बढ़ावा दे सकें। उन्होंने कहा कि सरस्वती नदी के मूल की खोज पर भी काम चल रहा है। सरस्वती नदी को उस रूप में बहाल करना तो संभव नहीं है लेकिन हमारा प्रयास है कि नदी के मार्ग पर धारा को प्रवाहित किया जाए और उसमें पानी बहे। ‘उस दिशा में हम निश्चित रूप से काम कर रहे हैं और करेंगे।’

पंजाब में बोले पीएम मोदी- “पाक जाने वाला बूंद-बूंद पानी रोककर किसानों को देंगे”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 28, 2016 3:25 am

सबरंग