ताज़ा खबर
 

यूपी के मऊ में पकड़ा गया चोटी कटवा, जानिए कौन है

उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद के सरायलखंसी थाना क्षेत्र के पलिगढ़ गांव में उस वक्त हड़कंप मच गया, जब खेतों की तरफ जा रही गांव की लड़की को चोटी कटने का अहसास हुआ।
Author मऊ (यूपी) | August 31, 2017 22:16 pm

उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद के सरायलखंसी थाना क्षेत्र के पलिगढ़ गांव में उस वक्त हड़कंप मच गया, जब खेतों की तरफ जा रही गांव की लड़की को चोटी कटने का अहसास हुआ। लड़की नेहा ने अपने बाल को झाड़ा तो एक कीड़ा जमीन पर आ गिरा। उसने कीड़े पर टॉर्च की रोशनी दी तो कीड़ा अपनी जगह पर रुक गया। नेहा ने आवाज देकर आसपास के लोगों को बुलाया, तो ग्रामीण नेहा की तरफ भागे और पास जाकर देखा तो एक कीड़ा जमीन पर पड़ा है। एक ग्रामीण वीरेंद्र ने उस कीड़े को उठाकर एक डब्बे में बंद कर दिया और उसमें कुछ बाल रख दिए।

वीरेंद्र ने बताया कि तीन दिन पहले पकड़ा गया कीड़ा बाल को बहुत ही जल्दी खाता है। वह बाल के अलावा कुछ भी नहीं खाता है। इस कीड़े का पिछला हिस्सा बहुत ही कठोर है। इस चोटीकटवा कीड़े को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आ रहे हैं। वीरेंद्र ने बताया कि यह कीड़ा रोशनी में नहीं देख पाता है। यही वजह है कि महिलाओं की चोटी रात के वक्त ही कट रही है। उसने बताया कि इस कीड़े के बारे में प्रशासन को जानकारी दी गई है, लेकिन कोई देखने नहीं आया है। चोटीकटवा कीड़ा मिलने से ग्रामीण महिलाओं में दहशत है।

बता दें कि पिछले काफी लंबे समय से कई राज्यों से महिलाओं की चोटी कटने की खबरें आ रही हैं। हाल ही खबर आई थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में “चोटी कटवा बाबा” की मूर्ति स्थापित की गई है। वाराणसी के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में “चोटी कटवा बाबा ” की मूर्ति लगाई गई है। दरअसल पिछले महीने से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग जिलों में चली आ रही चोटी काटने की अफवाहों में वाराणसी के साथ ही पूर्वांचल के आसपास के जिले शामिल हो गए हैं। दो दिनों के अंदर वाराणसी सहित आजमगढ़, चंदौली ,जौनपुर में 100 से ज्यादा सोते समय चोटी कटने के घटनायें सामने आयी हैं। इसके टोटके भी किये गए। लोगों ने घर से बाहर नींबू-मिर्च भी टांगे लेकिन इन सबके बीच सर्वविद्या की राजधानी कही जाने वाले विश्व में मशहूर बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी कैम्पस के शॉपिंग मॉल ग्राउंड में पीपल के पेड़ के नीचे चोटी कटवा बाबा को स्थापित कर दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.