ताज़ा खबर
 

दो साल बाद पत्नी और बेटे के साथ विधानसभा पहुंचे अमित शाह, कहा- गुजरात आ रहा है भाजपा का विजय रथ

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के सम्मान में पार्टी कार्यकर्ताओं ने एक समारोह का भी आयोजन किया।
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को सम्मानित करते पार्टी कार्यकर्ता। ( Photo Source: PTI)

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गुजरात से विधायक अमित शाह गुरुवार को राज्य की विधानसभा पहुंचे। जब सुबह अमित शाह विधानसभा पहुंचे तो हजारों भाजपा कार्यकर्ताओं, विधायकों और मंत्रियों ने उनका भव्य स्वागत किया। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह नारानपुरा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के विधायक हैं। शाह दो साल बाद विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने पहुंचे। शाह ने आखिरी बार मार्च 2015 में सदन की कार्यवाही में हिस्सा लिया था। भाजपा प्रमुख अपनी पत्नी और बेटे के साथ सदन पहुंचे। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष जितू वघानी और मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने उन्हें फूल देकर उनका स्वागत किया।

अमित शाह अपने गृह राज्य के दो दिनों के दौरे पर हैं, वे यहां पर इस साल के अंत में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे हैं। इस दौरान अमित शाह पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात भी करेंगे। भारतीय जनता पार्टी की यूपी में शानदार जीत के लिए अमित शाह को सम्मानित करने के लिए भाजपा ने एक समारोह का आयोजन भी किया। इस दौरान कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रहा भाजपा का विजय रथ घूमते-घूमते नवम्बर में गुजरात आने वाला है। मैं पूछना चाहता हूं कि जब भाजपा का रथ गुजरात आ रहा है तो क्या पार्टी कार्यकर्ता तैयार हैं?’

अमित शाह ने भाजपा कार्यकर्ताओं को इसी बीच संकल्प भी दिला दिया। शाह ने कहा कि आज भाजपा के कार्यकर्ता यह संकल्प लेते हैं कि यूपी की तरह गुजरात में भी भाजपा को 150 से ज्यादा सीटें लानी हैं। बता दें, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमत हासिल हुआ है। यूपी चुनाव में भाजपा को 403 सीटों में से 312 सीटें मिली हैं, वहीं उत्तराखंड में 70 सीटों में से 57 सीटों पर भाजपा को जीत हासिल हुई है।

गुजरात में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव हैं। भाजपा गुजरात में पिछले दो दशक से राज कर रही है। लेकिन इस बार भाजपा के लिए यह लड़ाई थोड़ी मुश्किल हो सकती है। नरेंद्र मोदी 13 साल तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे, लेकिन जब वे 2014 में प्रधानमंत्री बन गए तो आनंदीबेन पटेल को सीएम बनाया गया। लेकिन आनंदीबेन पटेल के नेतृत्व में राज्य में भाजपा की छवि खराब होने लगी और बाद में पार्टी नेतृत्व ने आनंदीबेन पटेल को सीएम पद से हटा दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग