ताज़ा खबर
 

राजकोट: 15 अगस्त पर दलित सरपंच को नहीं फहराने दिया तिरंगा, कहा- तुम अशुद्ध कर दोगे

दलित सरपंच ने डिप्टी सरपंच के पति पर आरोप लगाए हैं, जिसके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है

गुजरात के राजकोट में एक गांव के दलित सरपंच ने आरोप लगाया है कि डिप्टी सरपंच के पति ने उन्हें स्वतंत्रता दिवस पर इसलिए तिरंगा नहीं फहराने दिया, क्योंकि वो दलित हैं। गोंडल तालुका के सरपंच प्रेमजी जोगल की शिकायत के आधार पर गोंडल पुलिस ने आरोपी राजेश सखिया के खिलाफ आपराधिक धमकी व एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। शिकायत में सरपंच प्रेमजी जोगल ने कहा कि गांव के प्राइमरी स्कूल में 15 अगस्त पर होने वाले ध्वजारोहण समारोह से ठीक पहले डिप्टी सरपंच के पति ने उन्हें झंडा फहराने से रोक दिया।

सरपंच ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया, “राजेश ने मुझे कहा कि मैं तिरंगा नहीं फहरा सकता क्योंकि मैं दलित हूं। उसने कहा कि अगर मैने झंडा फहराया तो यह अशुद्ध हो जाएगा।” सरपंच ने दावा किया कि उसे मंच की कुर्सी पर ही वापस बैठा दिया गया और पाटीदार समुदाय से ताल्लुक रखने वाले राजेश ने दलित और पाटीदार समाज की दो नाबालिग लड़कियों को बुलाकर झंडा फैलवाया। आमतौर पर प्राइमरी स्कूल में होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह में सरपंच ही तिरंगे को फहराते हैं।

प्रेमजी जोगल ने इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी देते हुए आरोप लगाया कि “समारोह शुरू होने से पहले ही राजेश ने मुझे धमकी देते हुए कहा कि या तो कुर्सी पर ही बैठा रहूं नहीं तो इसे भी खो दूंगा।” राजेश की पत्नी का नाम तृषा है जो गांव की डिप्टी सरपंच है। यह गांव पाटीदार बहुत है, लेकिन यहां करीब 15 दलित परिवार भी रहते हैं। पिछले साल यहां सरपंच के चुनाव में दलित आरक्षित सीट आई थी और प्रेमजी जोगल निर्विरोध जीत गए थे।

स्वतंत्रता दिवस पर इस तरह की और भी कई घटनाएं सामने आई हैं। तेलंगाना में जूते पहन तिरंगा फहराना का मामला सामने आया था। ऐसा करने वाले मुस्लिम प्रिंसिपल के साथ लोगों ने मारपीट भी की। पुलिस ने 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक सरकारी कॉलेज के प्राचार्य को राष्ट्रीय ध्वज फहराने से कथित तौर पर रोकने के मामले में 16 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.