February 22, 2017

ताज़ा खबर

 

गिद्ध कम होने से परेशान पारसी समुदाय छोड़ रहा शवों को खुले में छोड़ने की परंपरा

गुजरात के नवसारी में कब्रिस्‍तान के पक्ष में पारसी समुदाय के लोगों ने भारी समर्थन दिया।

गुजरात में पारसी समुदाय अंतिम संस्‍कार की अपनी सदियों पुरानी परंपरा को छोड़कर दफनाने की पद्धति को अपना सकता है।

गुजरात में पारसी समुदाय अंतिम संस्‍कार की अपनी सदियों पुरानी परंपरा को छोड़कर दफनाने की पद्धति को अपना सकता है। पा‍रसियों में मौत के बाद शव को पक्षियों और जानवरों के खाने के लिए छोड़ दिया जाता है। इसके तहत एक तय जगह पर शव को रख दिया जाता है। लेकिन गिद्धों की कम होती संख्‍या के कारण समुदाय इस परंपरा को बदल सकता है। द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात के नवसारी में बैठक में शव को दफनाने के पक्ष में समुदाय के लोगों ने भारी समर्थन दिया।

द हिंदू को अंजुमन के सचिव यज्‍दी कसाद ने बताया, ”हमने बैठक बुलाई थी और इसमें एक मुद्दा कब्रिस्‍तान के बारे में चर्चा करना था। कब्रिस्‍तान के विरोध में केवल छह लोग थे।” कसाद ने साथ ही कहा कि शव को दफनाने या उसे खुले में छोड़ने, दोनों तरीके चलते रहेंगे और परिवार को अंतिम संस्‍कार का तरीका चुनने की आजादी होगी। पारसियों में अंतिम संस्‍कार में बदलाव का यह पहला मामला नहीं है। बेंगलुरु और सोलापुर में भी इस तरह की अनुमति दी जा चुकी है। पारसी समुदाय दोखमेनाशिनी पद्धति में विश्‍वास करती है। इसमें शवों को कुंओं के अंदर छोड़ दिया जाता है या फिर सूरज की रोशनी में दखमास में मांस खाने वाले पक्षियों के लिए छोड़ दिया जाता है। लेकिन गिद्धों की घटती संख्‍या के चलते अंतिम संस्‍कार का तरीका बदलने की मांग उठ रही है।

पिछले सप्‍ताह 160 नवसारी पारसियों ने आरामगाह या कब्रिस्‍तान के मांग पत्र पर दस्‍तखत किए थे। नवसारी के एक पारसी व्‍यक्ति ने द हिंदू को बताया, ”हम पुराने तरीके को भी बनाए रखना चाहते हैं लेकिन विकल्‍प भी चाहिए।” अंतिम संस्‍कार के तरीके को बदलने की मांग हालांकि समुदाय के लोगों को रास नहीं आ रही है। समुदाय के एक बड़े पुजारी दस्‍तुर डॉ. फिरोज कोटवा ने बताया कि परंपरागत तरीके को मजबूत करने के बजाय दूसरे तरीकों को अपनाना अस्‍वीकार्य है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on January 9, 2017 4:32 pm

सबरंग