ताज़ा खबर
 

नवजोत कौर सिद्धू ने कहा- नहीं दूंगी विधानसभा से इस्तीफा

मैंने हमेशा गड़बड़ियों के खिलाफ आवाज उठाई। जब मैंने अपने क्षेत्र के लिए धन मांगा तो कोष जारी नहीं किया गया।
Author अमृतसर | October 10, 2016 05:47 am
नवजोत कौर सिद्धू। (File Photo)

भाजपा से इस्तीफा देने के एक दिन बाद नवजोत कौर सिद्धू ने रविवार को आरोप लगाया कि पार्टी ने हमेशा उनसे ‘चुप’ रहने को कहा और जब भी अकाली दल के खिलाफ उन्होंने आवाज उठाई तो पार्टी नेता कभी उनके साथ खड़े नहीं हुए। उन्होंने कहा कि वह विधानसभा से इस्तीफा नहीं देंगी और अपने क्षेत्र में विकास कार्य करती रहेंगी।अमृतसर में विकास परियोजनाओं को लेकर राज्य की अकाली दल-भाजपा नीत सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाली नवजोत ने दावा किया कि अकाली दल के इशारे पर भाजपा कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह विधानसभा से इस्तीफा नहीं देंगी और अमृतसर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य करना जारी रखेंगी।

उन्होंने पत्रकारों से कहा- मैंने हमेशा गड़बड़ियों के खिलाफ आवाज उठाई। जब मैंने अपने क्षेत्र के लिए धन मांगा तो कोष जारी नहीं किया गया। मुझसे कहा गया कि राजनीति में ऐसी चीजें होती रहती हैं। कौर ने कहा कि – मैंने अपनी पार्टी और नेताओं से कई बार बात की और कोष के लिए कहा। उन्होंने मुझसे कहा कि अपना मुंह बंद रखो। मुझसे कहा गया कि कुछ गलत होता है तो मुझे चिंता नहीं करनी चाहिए। गठबंधन है, आप इसके खिलाफ मत बोलिए। उन्होंने कहा कि अकाली दल के इशारे पर भाजपा कार्यकर्ताओं को परेशान किया जा रहा है। उनकी शिकायतों पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

उन्होंने कहा कि वह पार्टी के संज्ञान में यह लेकर आईं कि अकाली दल हमारे कार्यकर्ताओं के साथ दुर्व्यवहार कर रहा है और विकास परियोजनाओं के लिए कोष जारी नहीं किया जा रहा है। भाजपा नेताओं ने इसे हल्के में लिया और कभी मेरे साथ खड़े नहीं हुए। उन्होंने भ्रष्टाचार में शामिल भाजपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई भी नहीं की। नवजोत ने कहा कि पार्टी को हमें पहले बताना चाहिए था कि चाहे घोटाला, माफिया राज और किसी भी तरह का घोटाला हो, हमें चुप रहना होगा। उन्होंने कहा कि वह राज्य में हो रही गड़बड़ियों पर चुप रहने के लिए राजनीति में नहीं आई हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि जब उन्होंने विकास कार्यों के लिए कोष की मांग की तो उन्हें अपमानित किया गया। भविष्य की योजना के बारे में पूछने पर नवजोत ने कहा कि वह आवाज-ए-पंजाब के लोगों के साथ बैठेंगी। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि विधानसभा से इस्तीफे का कोई कारण नहीं है। जब आप विधायक होते हैं तो आप अपने क्षेत्र में कार्य पर निगरानी रख सकते हैं। मैं अपनी सीट पर उपचुनाव नहीं चाहती।

मैं नहीं चाहती कि कोष बिना उपयोग के पड़ा रहे और उसका दुरुपयोग हो।नवजोत कौर ने मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल, राजस्व मंत्री बिक्रम मजीठिया और पंजाब भाजपा के पूर्व अध्यक्ष कमल शर्मा पर उनके विधानसभा क्षेत्र में विकास संबध्ांी कार्य करने में अड़चनें पैदा करने का आरोप लगाया। नवजोत ने कहा कि इन लोगों ने उनके पति को पंजाब की राजनीति से दूर रखा, भाजपा आलाकमान पर दबाव बनाया कि 2014 लोकसभा चुनावों के लिए अमृतसर सीट से उनका टिकट काटा जाए और यहां अरुण जेटली को लाया गया।उधर पंजाब भाजपा प्रमुख विजय सांपला ने नवजोत के आरोपों को खारिज किया। उन्होंने लुधियाना में कहा कि कई बार उनके बयानों को लेकर उन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की स्थिति पैदा हो जाती थी लेकिन हमने ऐसा नहीं किया। .

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग