ताज़ा खबर
 

पति के मीट खाने का पता चला तो थाने पहुंच गई बीवी, मांगा तलाक

महिला ने कहा कि उसका पति बिजनेस ट्रिप के बहाने अपने दोस्तों के साथ बाहर घूमने जाता है। इस दौरान वह मीट और ड्रिंक करता है। बाद में महिला को इस बात की जानकारी मिली।
Author अहमदाबाद | April 22, 2017 18:00 pm
मीट खाने को लेकर बीवी ने मांगा तलाक। (Representative Image)

गुजरात के अहमदाबाद की एक 23 साल की महिला ने पुलिस में पति के खिलाफ 5 साल तक प्रताड़ित करने की शिकायत दर्ज कराई है। महिला की शिकायत है कि उसके पति ने कथित तौर पर अपना वादा तोड़ा है, जिसमें उसने कहा था कि वह शादी के बाद मांस (मीट) खाना छोड़ देगा। दरअसल महिला जैन सुमदाय से ताल्लुक रखती है, जो कि शाकाहारी होते हैं, वो प्याज, आलू, बैंगन और अदरक का भी सेवन करने से परहेज करते हैं। वहीं, महिला का पति मूल रूप से बिहार का रहने वाला और पूरी तरह से मांसाहारी है। जैन समुदाय के लोग अहिंसा के सिद्धांत पर चलते हुए मीट और फिश नहीं खाते हैं। 6 साल पहले दोनों में प्यार हो गया। शादी से पहले महिला ने मांस खाने को लेकर एतराज जताया तो उसने मीट छोड़ देने का वादा किया। जिसके बाद महिला ने इस बात की जानकारी अपने घरवालों को दी और दोनों की शादी हो गई। दोनों की दो जुड़वा बच्चियां भी हैं।

अहमदाबाद मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक महिला ने अपने शिकायत में यह भी कहा कि उसका पति उसे घर खर्च चलाने और बच्चों की देखभाल के लिए पर्याप्त पैसे नहीं देता है। यहा तक की उसने अपनी सैलरी भी गलत बताई है। उसने अपनी सैलरी 15000 रुपए बताई थी, जबकि उसे 40000 रुपए प्रति माह तनख्वाह मिलती है। महिला ने कहा कि उसका पति बिजनेस ट्रिप के बहाने अपने दोस्तों के साथ बाहर घूमने जाता है। इस दौरान वह मीट और ड्रिंक करता है। बाद में महिला को इस बात की जानकारी मिली। जिसके बाद दोनों में विवाद हुआ। महिला का आरोप है कि पति ने उसे जान से मारने की धमकी दी। जिसके बाद वह पति के घर को छोड़कर बच्चों को लेकर अपने माता-पिता के घर आ गई।

महिला की शिकायत पर पुलिस ने पति को तलब किया। पति ने पुलिस के सामने कबूल किया कि वह मीट खाता है, लेकिन उसने कभी पत्नी के सामने मीट नहीं खाया और न ही कभी उसे किसी ऐसे स्थान पर ले गया जहां मांसाहारी खाना परोसा जाता है। उसने कहा कि वह मीट और ड्रिंक दोस्तों के साथ बाहर जाने पर ही करता है। यही नहीं मैं उस दिन घर भी नहीं आता हूं। पुलिस के मुताबिक महिला अपने पति के घर नहीं जाना चाहती है। साथ ही वह पति के खिलाफ एफआईर भी दर्ज नहीं करना चाहती है। दोनों ने आपसी सहमति से तलाक लेने का फैसला किया है।

शादीशुदा महिलायें पढाई से ध्यान भटकाती हैं, इसलिए आवासीय कॉलेजों में नहीं देंगे प्रवेश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.