ताज़ा खबर
 

गुजरात: पाटीदार नेता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में नोट लहराकर कहा, मुझे एक करोड़ में खरीदना चाह रही थी बीजेपी

इससे पहले रविवार को हार्दिक पटेल के दो साथी पाटीदार नेता बीजेपी में शामिल हुए थे।
पाटीदार नेता नरेंद्र पटेल ने पत्रकार वार्ता में 10 लाख रुपये नकदी भी दिखायी जो उन्हें कथित तौर पर बीजेपी ने अग्रिम तौर पर दिया था। (तस्वीर- एएनआई)

गुजरात विधान सभा चुनावों से ठीक पहले हार्दिक पटेल के साथी पाटीदार नेता ने मीडिया के सामने आरोप लगाया कि बीजेपी उन्हें एक करोड़ रुपये में खरीदना चाहती थी और उन्हें 10 लाख रुपये एडवांस (अग्रिम) के तौर पर दिये गये थे। पाटीदार अनामत समिति (पास) क संयोजक नरेंद्र पटेल रविवार (22 अक्टूबर) को हार्दिक पटेल के पू्र्व साथी वरुण पटेल के सामने बीजेपी में शामिल हुए थे। वरुण पटेल भी रविवार को ही बीजेपी में शामिल हुए थे। नरेंद्र पटेल ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने उन्हें वरुण पटेल के माध्यम से उसमें शामिल होने पर एक करोड़ रुपये देने का वादा किया था। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार वरुण पटेल ने इन आरोपों से इनकार किया है। गुजरात में 18 दिसंबर से पहले चुनाव होने हैं क्योंकि उस दिन गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधान सभा चुनाव के नतीजे आने की चुनाव आयोग पहले ही घोषणा कर चुका है।

नरेंद्र पटेल ने मीडिया से कहा, “वरुण पटेल ने मेरे लिए बीजेपी के साथ एक करोड़ रुपये की डील की। उन्होंने मुझे 10 लाख रुपये एडवांस दिए। बाकी 90 लाख रुपये वो मुझे कल देने वाले थे लेकिन वो मुझे पूरा रिजर्व बैंक भी दे दें तो वो मुझे खरीद नहीं पाएंगे।” नरेंद्र पटेल ने मीडिया के सामने नोटों के बंडल भी पेश किए जो उन्हें कथित तौर पर एडवांस के रूप में मिले थे। नरेंद्र पटेल ने दावा किया कि उन्होंने एडवांस रुपये इसलिए लिए ताकि मीडिया के सामने वरुण पटेल और बीजेपी को बेनकाब कर सकें। वरुण पटेल और उनकी साथी रेशमा पटेल रविवार सुबह बीजेपी में शामिल हुए थे। दोनों ही पाटीदार आंदोलन के नेता था। दोनों नेताओं ने बीजेपी में शामिल होते समय आरोप लगाया कि हार्दिक पटेल कांग्रेस से मिल गये हैं।

नरेंद्र पटेल के आरोपों के बाद वरुण पटेल ने कहा कि ये आरोप कांग्रेस के कहने पर लगाए जा रहे हैं। बीजेपी ने अभी तक इन आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। हार्दिक पटेल के नेतृत्व में पाटीदारों के लिए आरक्षण की मांग ने उग्र रूप ले लिया था। माना जाता है कि नरेंद्र मोदी की जगह गुजरात की मुख्यमंत्री बनने वाली आनंदीबेन पटेल की कुर्सी जाने में पाटीदार आंदोलन पर काबू न कर पाना बड़ी वजह थी। आनंदीबेन की जगह राज्य के मौजूदा सीएम विजय रूपानी ने ली थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.