ताज़ा खबर
 

गुजरात: BJP के खिलाफ राहुल गांधी की गोलबंदी, कांग्रेस में आएंगे अल्पेश ठाकोर, हार्दिक और जिग्नेश को भी भेजा न्योता

राज्य कांग्रेस प्रमुख भरत सिंह सोलंकी ने भरोसा जताया कि इन नेताओं के ‘‘समर्थन और आशीर्वाद’’ से पार्टी कुल 182 सीटों में 125 से ज्यादा सीटें आसानी से जीत जाएगी।
क्षत्रिय ठाकोर महामंच के संयोजक अल्पेश ठाकोर अहमदाबाद में एक रैली को संबोधित करते हुए (Express File Photo)

गुजरात के ठाकुर समुदाय के युवा नेता अल्पेश ठाकुर विधान सभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं। अल्पेश ठाकुर ने शनिवार (21 अक्टूबर) को गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात के बाद ये घोषणा की। 23 अक्टूबर को अहमदाबाद में एक रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में अल्पेश ठाकुर कांग्रेस में शामिल होंगे। अल्पेश ठाकुर ओबीसी एकता मंच के नेता है। सूत्रों के मुताबिक अल्पेश ठाकोर बनासकांठा जिले के वाव सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं। बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव में ओबीसी वोटर्स का बड़ा रोल है। राज्य में ओबीसी मतदाताओं की संख्या 54 फीसदी है, लिहाजा हर पार्टी इस समुदाय को अपने पक्ष में करना चाहती है। अल्पेश ठाकोर ने दावा किया है कि 23 अक्टूबर की रैली में 5 लाख लोग जुटेंगे। इससे पहले कांग्रेस ने सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए आज पाटीदार आरक्षण आंदोलन चलाने वाले हार्दिक पटेल, ठाकुर समुदाय के नेता अल्पेश ठाकुर और दलित नेता जिग्नेश मेवानी को पार्टी के साथ हाथ मिलाने के लिए आमंत्रित किया था। इन नेताओं के अलावा कांग्रेस ने शरद पवार के नेतृत्व वाली राकांपा और राज्य से जदयू के एकमात्र विधायक छोटू भाई वसावा को साथ लाने के लिए चुनावपूर्व गठबंधन का संकेत दिया है । संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए राज्य कांग्रेस प्रमुख भरत सिंह सोलंकी ने भरोसा जताया कि इन नेताओं के ‘‘समर्थन और आशीर्वाद’’ से पार्टी कुल 182 सीटों में 125 से ज्यादा सीटें आसानी से जीत जाएगी ।

सोलंकी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हालांकि भाजपा चुनाव जीतने के लिए पूरी कोशिश कर रही है पर गांधीनगर के लिए कांग्रेस के विजय मार्च को रोकने में उसे सफलता नहीं मिलेगी । ’’   उन्होंने कहा, ‘‘जिस कारण के लिए हार्दिक पटेल लड़ रहे हैं हम उसका सम्मान और अनुमोदन करते हैं । मैं हार्दिक से चुनावों के दौरान कांग्रेस का समर्थन करने की अपील करता हूं। अगर वह भविष्य में चुनाव लड़ना चाहें तो हम उन्हें टिकट देने के लिए भी तैयार हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसी तरह हमने जिग्नेश मेवानी को भी कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने के लिए आमंत्रित किया है । मैंने छोटू वसावा को भी कांग्रेस का समर्थन करने के लिए आमंत्रित किया है जिन्होंने राज्य सभा चुनावों में हमारी मदद की थी । ’’ उन्होंने कहा कि राकांपा ने राज्यसभा चुनावों में कांग्रेस को ‘‘धोखा’’ दिया था लेकिन वो गुजरात से भाजपा को उखाड़ फेंकना चाहते हैं तो पार्टी के दरवाजे अभी भी उनके लिए खुले हैं ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    Shibu
    Oct 22, 2017 at 12:35 am
    क्या यह जातिवाद की राजनीती नहीं है ? मुझे लगता था अब जनता जागरूक हो गयी है और विकास की राजनीती पर केंद्रित रहेगी.
    (9)(8)
    Reply