December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

गुजरात: आत्महत्या करने वाले दलित शख्स को 1991 में दिया गया था ‘गांव निकाला’

गुजरात में प्रभात परमार नाम के एक दलित शख्स ने आत्महत्या कर ली। परमार ने एक विरोध प्रदर्शन के दौरान आत्महत्या की थी।

प्रभात परमार ने सोमवार को सुसाइड कर लिया था।

गुजरात में प्रभात परमार नाम के एक दलित शख्स ने सोमवार (17 अक्टूबर) को आत्महत्या कर ली। परमार ने एक विरोध प्रदर्शन के दौरान आत्महत्या की थी। वह प्रदर्शन गुजरात के जूनागढ़ जिले के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर के दफ्तर के बाहर हो रहा था। प्रदर्शन के वक्त परमार, जिगनेश राठौड और चांदू परमार नाम के शख्स ने जहर खा लिया था। उसके बाद हॉस्पिटल में परमार की मौत हो गई। हालांकि, बाकी दोनों बच गए। यह प्रदर्शन 12 अक्टूबर से जारी था। प्रदर्शन संधा नाम के गांव की खेती वाली जमीन को लेकर था। इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी मिली है कि विरोध प्रदर्शन तो कुछ दिन पहले ही शुरू हुआ था लेकिन परमार पर अत्याचार 1991 से जारी था। परमार, उसके कई रिश्तेदारों और बाकी कई दलित परिवारों को 25 साल पहले गांव से निकाल दिया गया था। लड़ाई उस वक्त शुरू हुई थी जब दलित लोगों ने खेती के लिए कुछ जमीन की मांग की। आरोप है कि उस वक्त परमार को 7-8 लोगों ने मिलकर मारा था। इसके बाद परमार अपने परिवार के साथ राजकोट जिले में रहने लगा था। परमार ने 2000 में लोकल कोर्ट में भी इसके लिए अर्जी डाली थी। लेकिन कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि दलित लोग गौचर जमीन पर खेती करना चाहते हैं लेकन उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती।

वीडियो: Top 5 News

गौरतलब है कि ऊना कांड के बाद से ये लोग प्रदर्शन कर रहे थे। लेकिन कुछ दिन पहले इन्होंने दलितों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ जारी प्रदर्शन में जमीन की मांग को भी जोड़ लिया। इसके लिए लगभग 86 दलित परिवारों ने संधा में जमीन के लिए अर्जी दे दी थी। हालांकि, 17 परिवार ही वहां रह रहे हैं। यह मामला संधा की 750 बीघा जमीन का है। जिसे दलित लोग खेती करना चाहते हैं। दलित लोगों का आरोप है कि उस जमीन में से 250 बीघे जमीन गैर-दलित लोगों के कब्जे में भी है। परमार के सुसाइड से उसका परिवार भी सदमे में है। परमार के बेटे का कहना है कि उसे भी नहीं पता था कि उसके पिता ऐसा कोई कदम उठा लेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 21, 2016 9:23 am

सबरंग