ताज़ा खबर
 

अहमदाबाद में जापानी पीएम की पत्नी को परोसी जाएगी दो फीट लंबी बुलेट ट्रेन आइसक्रीम

आकी आबे जब अहमदाबाद में भारतीय मेहमाननवाजी का लुत्फ उठा रही होंगी तो उनके सामने खाने की टेबल पर एक बुलेट ट्रेन होगा।
बुधवार 13 सितंबर को अहमदाबाद एयरपोर्ट पर जापान के पीएम शिंजो आबे और उनकी पत्नी आकी आबे का स्वागत करते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (फोटो-पीटीआई)

अहमदाबाद में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और उनकी पत्नी आकी आबे के लंच के लिए विशेष इंतजाम किया गया है। आकी आबे जब अहमदाबाद में भारतीय मेहमाननवाजी का लुत्फ उठा रही होंगी तो उनके सामने खाने की टेबल पर एक बुलेट ट्रेन होगा। जी हां, चौकिए नहीं।  आइसक्रीम के शौकीनों के रूप में प्रसिद्ध अहमदाबाद में जापानी प्रधानमंत्री की पत्नी आकी आबे के लिए एक विशेष आइसक्रीम बनाया गया है, इस आइसक्रीम का आकार बुलेट ट्रेन जैसा है। और ये आइसक्रीम पूरे 2 फीट लंबा है। इस आइसक्रीम के टेस्ट के बारे में तो पूछिए ही नहीं। जब आकी आबे इस आइसक्रीम को टेस्ट करेंगी तो उनकी प्रतिक्रिया जानने के लिए मेजबान बेहद उत्सुक हैं। अपने विशेष मेहमानों को खुश करने के लिए मेजबानों ने कई और भी खास डिश तैयार किये हैं। अहमदाबाद मैनेजमेंट एसोसिएशन अपने इन विशेष मेहमानों का तहे दिल से स्वागत कर रहा है।

हैव मोर के जनरल मैनेजर वी मुखर्जी ने कहा कि जापान के पीएम शिंजो आबे की पत्नी के लिए खास डेजर्ट तैयार किये गये हैं। उन्होंने बताया कि बुलेट ट्रेन आइसक्रीम उनकी खास पेशकश है जो सिर्फ और सिर्फ आकी आबे के लिए डिजाइन की गई है। यही नहीं दोनों मेहमानों को खाने में खास गुजराती व्यंजन भी परोसे जाएंगे। वी मुखर्जी ने बताया कि मेहमानों को फाफड़ा जलेबी, मेथी ना गोटा और बिरयानी भी पेश की जाएगी। गुजरात का प्रसिद्ध चना भटूरा भी मेहमानों के लिए बनाये गये मेनू में शामिल है।

अहमदाबाद मैनेजमेंट एसोसिएशन में जापानी मेहमानों के लिए एक विशेष गीत तैयार किया गया है। इस गीत में गुजराती और जापानी भाषा में है। इस गीत के शुरुआती बोल हैं ‘केम छो कोन्नीचिवा।’ कमे छो गुजराती शब्द है और इसका मतलब होता है आप कैसे हैं। जबकि कोन्नीचिवा जापान में स्वागत के बोल हैं।  इस गीत को 18  स्कूल बच्चे मिलकर गाएंगे। इस गीत को इंडो-जापान फ्रेंडशिप एसोसिएशन के मुकेश पटेल के सहयोग से लिखा गया है। कल अहमदाबाद एयरपोर्ट पर 40 बौद्ध भिक्षुओं ने पीएम शिंजो आबे और उनकी पत्नी का स्वागत किया था। इन बौद्ध भिक्षुओं ने पवित्र बौद्ध ग्रंथों के श्लोक गाये और मेहमानों के कल्याण की कामना की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.