December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

सगी बहनों के पतियों में हुआ प्यार, GAY कपल बनकर रहने के लिए बीवियों को छोड़ा

यहां दो पुरुषों ने साथ रहने के लिए अपनी पत्नियों को छोड़ दिया है। दोनों पुरुष रिश्ते में एक-दसरे के साढ़ू हैं और दोनों महिलाएं सगी बहनें हैं।

सगी बहनों के पतियों को एक-दूसरे से हुआ प्यार। (REPRESENTATIVE IMAGE)

गुजरात के अहमदाबाद में एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। यहां दो पुरुषों ने साथ रहने के लिए अपनी पत्नियों को छोड़ दिया है। दोनों पुरुष रिश्ते में साढ़ू हैं और दोनों महिलाएं सगी बहनें हैं। दरअसल रिश्तेदार बनकर मिलने के बाद दोनों के बीच समलैंगिक रिश्ता बन गया। इसके बाद उन्होंने साथ रहने का फैसला किया। वे दोनों एक अलग घर में अपनी-अपनी पत्नियों को छोड़ कर साथ रहने लगे। जिसके बाद महिलाएं कोर्ट की शरण में पहुंच गई और अपने लिए न्याय की मांग कर रही है। दोनों बहनों ने पतियों को आरोपी बनाते हुए कोर्ट से मेंटिनेंस और आश्रय (Shelter) के रूप में अंतरिम राहत की मांग की है।

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक 2010 में बड़ी बहन की शादी एक स्थानीय कारोबारी से हुई थी, बाद में उनका एक बच्चा भी हुआ। मुश्किल उस समय शुरू हुई जब 2013 में छोटी बहन की शादी हुई। जिसके बाद बड़ी बहन के पति के छोटी बहन के पति के साथ समलैंगिक रिश्ते बन गए। करीब डेढ़ साल पहले दोनों ने आदमियों ने अपनी पत्नी को छोड़कर एक साथ रहना शुरू कर दिया। जिसके बाद दोनों बहनों ने पुलिस में इस बात की शिकायत की लेकिन इसमें किसी भी कानून का उल्लंघन नहीं होने के चलते पुलिस ने कार्रवाई करने में असमर्थता जताई।

वीडियो: डोनाल्ड ट्रंप ने की पीएम मोदी की तारीफ

READ ALSO: VIDEO: लाइव शो के दौरान होस्‍ट ने खींच लिया टीवी स्‍टार का टॉप और…

कोई भी उम्मीद नजर नहीं आने के बाद अंत में दोनों बहनों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। दोनों ने घरेलू हिंसा एक्ट 2005 के तहक महिला सुरक्षा का केस दर्ज कराया है। उनका आरोप है कि उनके पतियों के बीच बने समलैंगिक रिश्ते के चलते उन्हें नजरअंदाज किया गया है। उन्होंने कोर्ट से आग्रह किया है कि वह उनके पतियों को जीवन यापन और आश्रय के लिए पैसे देने का निर्देश दे। कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई के लिए 19 नवंबर की तारीख तय की है।

READ ALSO: पत्नी को अफेयर करने से रोका तो प्रेमी संग मिलकर काट डाली पति की जीभ

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 16, 2016 12:20 pm

सबरंग