ताज़ा खबर
 

गोरखपुर: बच्चों की मौत को कैलाश सत्यार्थी ने बताया ‘सामूहिक हत्याकांड’, पूछा-यही है आजादी?

नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने गोरखपुर में हुई बच्चों की मौत पर दुख जताया।
नोबेल पुरस्कार विजेता (Source: Agencies)

नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने गोरखपुर में हुई बच्चों की मौत पर दुख जताया। सत्यार्थी ने इसके लिए उत्तर प्रदेश की सरकार पर निशाना भी साधा। शनिवार (12 अगस्त) को सत्यार्थी ने ट्विटर पर पूछा कि क्या बच्चों के लिए भारत की आजादी के 70 सालों का मतलब यही है? उन्होंने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से अपील करते हुए लिखा कि उनको मामले को देखना चाहिए ताकि मेडिकल के क्षेत्र में दशकों से चल रहे भ्रष्टाचार को खत्म किया जा सके। सत्यार्थी ने लिखा, ’30 बच्चों की ऑक्सीजन की कमी के चलते मौत हो गई। यह हादसा नहीं बल्कि सामूहिक हत्याकांड है।’ गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कालेज स्थित नेहरू हॉस्पिटल में पिछले तीन दिनों में 63 लोगों की जान जा चुकी है। इसमें से ज्यादातर बच्चे हैं।

मिल रही जानकारी के मुताबिक, बच्चों की जान वक्त पर पूरी मात्रा में ऑक्सीजन ना मिल पाने की वजह से हुई। लेकिन यूपी सरकार इस बात को मानने से इंकार कर रही है। सरकार का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई। वह जापानी बुखार को इसका दोष दे रहे हैं। शुक्रवार शाम को आई इस खबर के बाद से देशभर में हंगामा मचा हुआ है। विपक्ष के नेता बीजेपी को घेरने की पूरी कोशिश में हैं। कांग्रेस के कई सीनियर नेता हॉस्पिटल पहुंचे। वहां उन्होंने योगी आदित्य नाथ के इस्तीफे की मांग की। कुछ दिन पहले ही योगी आदित्यनाथ ने भी इस हॉस्पिटल का दौरा किया था। उन्होंने दौरे के बाद कुछ तस्वीरें भी पोस्ट की थीं।

बच्चों की मौत की खबर सबसे पहले जिलाधिकारी राजीव रौतेला ने दी थी। उन्होंने कहा था कि मेडिकल कालेज में पिछले 48 घंटे में 30 बच्चों की मौत हो गयी थी लेकिन उन्होंने बच्चों की मौत का कारण नही बताया था। मौत का कारण बाद में सामने आ रहे कागजातों के हिसाब से बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि ऑक्सिजन सप्लाई करने वाले का भुगतान ना होने पर उसने सप्लाई रोक दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.