ताज़ा खबर
 

चार कोल्ड स्टोरेज मालिकों के खिलाफ एफआइआर दर्ज

उत्तर प्रदेश के कानपुर थाना शिवराजपुर अंतर्गत कटियार कोल्ड स्टोरेज में भीषण हादसे में पांच मजदूरों की मौत के बाद आखिरकार जिला प्रशासन नींद से जाग गया।
Author कानपुर | March 17, 2017 01:14 am
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर थाना शिवराजपुर अंतर्गत कटियार कोल्ड स्टोरेज में भीषण हादसे में पांच मजदूरों की मौत के बाद आखिरकार जिला प्रशासन नींद से जाग गया। जिसके चलते आलाधिकारियों ने आसपास के कोल्ड स्टोरेज के मानकों की जांच करना शुरू कर दिया। प्रशासन ने कटियार कोल्ड स्टोरेज के अलावा तीन अन्य कोल्ड स्टोरेज के मालिकों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करा दिया।  शहर का पश्चिम क्षेत्र यानी शिवराजपुर से लेकर कन्नौज तक क्षेत्र, जो आलू बेल्ट के नाम से जाना जाता है। यहां पर आलाधिकारियों के नाक के नीचे कोल्ड स्टोरेज मालिक खुलेआम अधिक मुनाफे के लिए मानकों की अनदेखी कर रहे हैं। जिसकी बानगी शिवराजपुर के महिपालपुर गांव में बुधवार को उस समय देखी गई, जब शंभू सिंह कटियार के कटियार कोल्ड स्टोरेज में क्षमता से अधिक आलू रखने से भरभरा कर ढह गया। जिसमें पांच मजदूर बेमौत मारे गए। अभी भी वहां पर एनडीआरएफ व सेना का रेस्क्यू आॅपरेशन जारी है। इस बड़े हादसे के बाद जिला प्रशासन नींद से जाग गया और सुबह आठ बजे से ही आलाधिकारी कटियार कोल्ड स्टोरेज के आसपास कोल्ड स्टोरेजों की जांच-परख शुरू कर दी।

एडीएम सिटी केपी सिंह ने बताया कि कटियार कोल्ड स्टोरेज के अलावा तीन कोल्ड स्टोरेज भी बिना मानक के चलते हुए पाए गए। जिनके खिलाफ संबंधित थानों में एफआइआर दर्ज कराई गई है। एडीएम सिटी ने बताया कि कटियार कोल्ड स्टोरेज के मालिक शंभू सिंह कटियार के खिलाफ सेवन सीएलए के अलावा लापरवाही से किसी की जान जोखिम में डालना सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। इसके साथ ही बिल्हौर का राधा कृष्ण कोल्ड स्टोरेज लाइसेंस के बिना निर्माण चलता पाया गया। भाग्य लोक कोल्ड स्टोरेज का लाइसेंस तो है, पर निर्माण की अनुमति नहीं थी फिर भी निर्माण कार्य चलता पाया गया।

इसी तरह चौबेपुर के शशिराज कोल्ड स्टोरेज की निर्माण की अनुमति है, पर लाइसेंस नहीं है। इसके बावजूद यहां पर भंडारण हो रहा था। जिसके चलते इन सभी के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई है। बताया गया कि कोल्ड स्टोरेजों की निगरानी बराबर होती रहेगी और कार्रवाई ऐसी ही होती रहेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग