April 26, 2017

ताज़ा खबर

 

2000 रुपये के नए नोट की लॉन्चिंग के दो दिन बाद ही चिकमंगलुरु में मिले फर्जी नोट

कर्नाटक पुलिस ने चिकमंगलुरु थाने में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420 के तहत धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है और दोषियों की धर पकड़ की कोशिश कर रही है।

नोटबंदी के बाद जारी किए गए 500, 2000 रुपए के नए नोट। (Source: ANI)

2000 रुपये के नए करेंसी नोट को बाजार में आए अभी दो दिन ही हुए थे कि कर्नाटक के चिकमंगलुरु में शनिवार को 2000 रुपये के नकली नोटों को पकड़ने का मामला सामने आया है। हालांकि, मामले में अभी तक किसी की गिरप्तारी नहीं हुई है लेकिन कर्नाटक पुलिस ने चिकमंगलुरु थाने में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420 के तहत धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है और दोषियों की धर पकड़ की कोशिश कर रही है। पुलिस टीम बनाकर शहर के कई इलाकों में छापेमारी कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक, एपीएमसी यार्ड के एक व्यापारी ने पुलिस से शनिवार शाम को संपर्क किया और बताया कि उसे किसी ने कुछ घंटे पहले ही  2000 रुपये के नकली नोट दिए हैं। पुलिस ने बताया, “2000 रुपये के नए नोट की यह कलर कॉपी है। हमने ऐसा करने वालों की धर पकड़ के लिए एक टीम बनाई है।” इसके अलावा अब देश भर से ये शिकायतें आ रही हैं कि 2000 रुपये के नोट को कोई व्यापारी नहीं ले रहा है क्योंकि उसके छुट्टे देने में लोगों को बहुत सारा खुल्ला पैसा देना पड़ रहा है। लोग व्यापारियों के पास से 100 या 2000 का कोई सामान खरीद रहे हैं और 2000 रुपये का नोट थमा रहे हैं। ऐसे में आम लोगों और व्यापारियों की परेशानी और बढ़ गई है। शनिवार को ही केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि अभी स्थिति सामान्य होने में 2 से 3 हफ्ते लग सकते हैं।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार (8 नवंबर) को घोषणा की थी कि 500 और 1000 के नोट 8 नवंबर की रात से प्रचलन से बाहर हो गए हैं। और उसकी जगह 500 और 2000 के नए नोट जारी किए जाएंगे। 9 नवंबर को देशभर के सभी बैंकों और एटीएम को बंद रखा गया था। उसके बाद 10 नवंबर से बैंकों में पुराने 500 और 1000 के नोट बदले जा रहे हैं लेकिन इसकी सीमा मात्र 4000 रुपये तक ही है। इससे देशभर के लोगों को परेशानी हो रही है।

वीडियो देखिए: दो दिनों में लोगों ने सिर्फ स्टेट बैंक से किए 2 करोड़ 28 लाख ट्रांजैक्शन्स, बोले जेटली

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 9:44 am

  1. V
    Vijay Anand
    Nov 13, 2016 at 4:25 am
    What is this?something went wrong with India, be care full
    Reply

    सबरंग