December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कैसे मुठभेड़ में मार गिराए गए सिमी के 8 सदस्य

इन कैदियों ने तड़के सुबह तीन से चार बजे के बीच जेल में एक कॉन्स्टेबल के गले में फंदे डालकर उसकी हत्या कर दी और फिर वहां से फरार हो गए थे।

पुलिस मुठभेड़ में मारे गए दो सिमी सदस्य। (Photo By Rajesh Chaurasia)

भोपाल सेन्ट्रल जेल से फरार सिमी के सभी 8 सदस्यों को मुठभेड़ में मार गिराया गया है। जेल से 20 किलोमीटर की दूरी पर ईंटखेड़ी गांव के पास सदस्य मार गिराए गए हैं।  ईंटखेड़ी गांव के प्रत्यक्षदर्शियों ने आईबीसी 24 चैनल को बताया कि उनलोगों ने कुछ लोगों को भागते हुए देखा था। जब उनलोगों ने उसे रोकने की कोशिश की तो सदस्य उन पर रोड़े बरसाने लगे। इसके तुरंत बाद गांववालों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। मौके पर तुरंत पहुंची पुलिस ने थोड़ी ही देर में एनकाउंटर में इन सभी सदस्यों को मार गिराया। ये सभी सदस्य तड़के सुबह तीन से चार बजे के बीच जेल में एक कॉन्स्टेबल के गले में फंदे डालकर उसकी गला रेतकर हत्या कर दी और फिर वहां से फरार हो गए थे। ये सभी सदस्य कोर्ट से आरोपी ठहराए जा चुके थे और कोर्ट में इनका ट्रायल चल रहा था।

दिवाली की रात जेल से फरार होने से पहले सदस्यों  ने हेड कांस्टेबल की गला रेतकर हत्या कर दी थी और फिर दीवार फांदकर फरार हो गए थे।  फरार होने वाले सदस्यों  में शेख मुजीब, माजिद खालिद, अकील खिलची, जाकिर, सलीख महबूब और अमजद शामिल था। इनका सुराग देने पर 5-5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था।

यहां देखें मुठभेड़ का वीडियो

भोपाल जेल से भागे इन आठ सिमी सदस्यों में से पांच खण्डवा जिले के निवासी थे।
1 अकील पिता युशुफ खिलजी
2 जाकिर पिता बदरुल हुसैन
3 मेहबूब पिता शेख इस्माइल
4 अमजद पिता सलमान
5 मो सादिक पिता मो हकीम

ये सभी विचाराधीन कैदी थे जिन पर खंडवा में एटीएस जवान सहित दो नागरिकों की दिनदहाड़े हत्या, रतलाम में भी एटीएस जवान की हत्या, देशद्रोह, बैंक डकैती,लूट जैसे संगीन अपराधो के गंभीर आरोप है। इन पर भारतीय दंड विधान की धारा 302,विधि विरुद्ध क्रियाकलाप निवारण अधिनियम(राष्ट्रद्रोह) की धारा 3,10,13,18,20 , आर्म्स एक्ट के भी आरोप है जो खंडवा सहित प्रदेश की विभिन्न अदालतों में विचाराधीन है।

Read Also-राजनाथ सिंह ने भोपाल जेल ब्रेक कांड पर मांगी पूरी रिपोर्ट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 31, 2016 12:40 pm

सबरंग