ताज़ा खबर
 

पूर्व सैनिक की पत्नी ने प्रधानमंत्री पर फोड़ा गुस्सा, भेजी 56 इंच की चोली

कश्मीर में आए दिन पत्थरबाजों द्वारा सैनिकों पर किए जा रहे हमले से आहत पूर्व सैनिक की पत्नी का गुस्सा फूट पड़ा और उसने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक पत्र लिखते हुए उन्हें 56 इंच की चोली भेज दी।
Author चंडीगढ़ | May 12, 2017 01:21 am
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Image Source: PTI)

कश्मीर में आए दिन पत्थरबाजों द्वारा सैनिकों पर किए जा रहे हमले से आहत पूर्व सैनिक की पत्नी का गुस्सा फूट पड़ा और उसने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक पत्र लिखते हुए उन्हें 56 इंच की चोली भेज दी। घटनाक्रम हरियाणा के फतेहाबाद जिले का है। जहां पूर्व सैनिक की पत्नी ने जिला सैनिक बोर्ड कार्यालय में पहुंचकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया। इस महिला का पत्र पढ़ने और महिला द्वारा प्रधानमंत्री को चोली भेजे जाने के लिए आवेदन किए जाने के बाद अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए। फतेहाबाद जिले के गांव जिसला निवासी धर्मवीर सिंह सेना की जाट रेजीमेंट में बतौर हवलदार तैनात थे।

वह करीब 11 साल तक जम्मू-कश्मीर के दुर्गम इलाकों में तैनात रहे और उन्हें 1997 व 2003 में राष्टÑपति द्वारा सेना मेडल से सम्मानित किया जा चुका है। पिछले कई दिनों से कश्मीर में हो रही पत्थरबाजी की घटनाओं से यह पूर्व सैनिक दंपति खासा आहत था। धर्मवीर और उसकी पत्नी सुमन गुरुवार को फतेहाबाद स्थित जिला सैनिक बोर्ड कार्यालय पहुंचे। जहां सुमन ने अधिकारियों को एक पत्र और 56 इंच की चोली थमाते हुए इसे प्रधानमंत्री को भेजने के लिए कहा।

प्रधानमंत्री के नाम लिखे इस पत्र में सुमन ने कहा कि पिछले कई दिनों से जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा सैनिकों को बेइज्जत किए जाने की घटनाएं हो रही हैं। उन्होंने कहा कि गोलियों से शहीद होते तो कोई डर नहीं लेकिन कश्मीर में सैनिकों के हाथ बंधे हुए हैं। वह सबकुछ कर सकने की स्थिति में होने के बावजूद कुछ नहीं कर पा रहे हैं। प्रधानमंत्री पर कटाक्ष करते हुए इस महिला ने कहा है कि चुनाव से पहले वह बडेÞ-बडेÞ दावे कर रहे थे। कश्मीर में सैनिक लगातार मर रहे हैं और सरकार व मंत्री केवल निंदा करने के बाद चुप हो जाते हैं।

महिला के अनुसार देश के लोगों ने 56 इंच के सीने को देखकर वोट दिए थे लेकिन आज उसमें दम नहीं है और 56 इंच के सीने वाला, देश के सैनिकों के हाथ खोलने की बजाए बांध रहा है। इस महिला ने प्रधानमंत्री को लिखा है कि वह सैनिकों को दुश्मन के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए खुली छूट दें। इस महिला का पत्र पढ़ने के बाद फतेहाबाद में जिला सैनिक बोर्ड अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए और उन्हें यह समझ नहीं आया की वह क्या कार्रवाई करें। इसके बाद जिला सैनिक बोर्ड अधिकारियों ने कई नियमों को खंगाला और तब जाकर महिला का पार्सल स्वीकार किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.