December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

‘नोटबंदी समर्थक’ ने की दर्शकदीर्घा से कूदने की कोशिश

लोकसभा में उस समय अफरातफरी फैल गई जब दर्शकदीर्घा में बैठे एक व्यक्ति ने सदन की कार्यवाही स्थगित होने के फौरन बाद सदन में कूदने का प्रयास किया। लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ कर काबू में कर लिया।

लोकसभा में उस समय अफरातफरी फैल गई जब दर्शकदीर्घा में बैठे एक व्यक्ति ने सदन की कार्यवाही स्थगित होने के फौरन बाद सदन में कूदने का प्रयास किया। लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ कर काबू में कर लिया। यह शख्स नोटबंदी पर विपक्ष के विरोधी तेवरों से नाराज था और सरकार के कदम का समर्थन कर रहा था। हालांकि उसे मीडिया से बातचीत करने का मौका नहीं दिया गया। नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे के कारण लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सुबह 11:20 बजे जैसे ही सदन की कार्यवाही 40 मिनट के लिए स्थगित की, उसी समय विपक्ष के एक सांसद ने दर्शकदीर्घा की ओर इशारा किया, जहां सुरक्षाकर्मी एक व्यक्ति को पकड़े हुए थे।

एक बार के स्थगन के बाद दोबारा चल रही सदन की बैठक में अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन को जानकारी दी कि दर्शकदीर्घा से नीचे कूदने का प्रयास करने वाला शख्स मध्य प्रदेश के शिवपुरी के निजामपुर गांव का रहने वाला राकेश सिंह बघेल है। उन्होंने घटनाक्रम का उल्लेख करते हुए सदन को सूचित किया कि इस शख्स ने सदन में कूदने का प्रयास किया और संसद के सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ लिया। अध्यक्ष ने कहा कि अगर सदन सहमत हो तो संसदीय सुरक्षा अधिकारियों द्वारा पूछताछ के बाद इस शख्स को चेतावनी देकर छोड़ा जा सकता है। इस पर संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सदस्य अध्यक्ष के प्रस्ताव से सहमत हैं।

प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष के एक सदस्य ने जब इशारा किया तो यह बात सामने आई कि वह व्यक्ति दर्शकदीर्घा से नीचे सभा में कूदने का प्रयास कर रहा था। उसका दाहिना पैर दीर्घा से लगे लकड़ी के घेरे के ऊपर था और तभी सतर्क सुरक्षाकर्मियों ने उसे पकड़ लिया। वह व्यक्ति दर्शकदीर्घा में ऊपर उस तरफ था जिस ओर सत्ता पक्ष के सदस्य बैठते हैं। उस व्यक्ति को काबू में करके सुरक्षाकर्मी ले गए। उसके बाद लोकसभा की कार्यवाही देखने आए अन्य दर्शकों को बाहर आने दिया गया। लोकसभा सूत्रों के मुताबिक करीब 24 साल का राकेश सिंह बघेल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के भाजपा सांसद भोला सिंह की अनुशंसा पत्र के माध्यम से लोकसभा की दर्शक दीर्घा में आया था। सुरक्षाकर्मियों ने उससे किसी पत्रकार को बातचीत नहीं करने दी, लेकिन वह नोट बंदी पर विपक्ष के विरोध से नाराज था और कह रहा था कि विपक्ष के लोग सरकार को काम करने नहीं दे रहे हैं।

दर्शकदीर्घा में अगली कतार में सामान्य तौर पर दिल्ली पुलिस के कर्मी सादी वर्दी में बैठते हैं ताकि किसी अप्रिय घटना को रोका जा सके। उसके एक पैर बाहर निकालते ही एक सुरक्षाकर्मी की उस पर नजर पड़ी। आनन-फानन में कई सुरक्षाकर्मियों ने उस पर काबू पा लिया। इस घटनाक्रम के दौरान अध्यक्ष आसन से उठकर जा चुकी थीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सदन में उपस्थित नहीं थे। लेकिन उस समय अरुण जेटली समेत कुछ वरिष्ठ मंत्री सदन में मौजूद थे। सदन में मुलायम सिंह यादव सहित कुछ वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे। राकेश सिंह बघेल की हरकत से इतना जरूर हुआ कि विरोध में शोर कर रहे सांसद अचानक नारे लगाना बंद करके उसकी ओर देखने लगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 26, 2016 12:44 am

सबरंग