December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

बेटी की शादी के लिए निकालने थे रुपए, 8 घंटे लाइन में लगने के बाद आया हार्ट अटैक, मौत

8 घंटे लाइन में खड़े रहने के बाद रघुनाथ को दिल का दौरा पड़ा और वह गिर पड़े।

नोटबंदी के बाद बैंकों के बाहर भीड़ खत्म होने का नाम नहीं ले रही। PTI photo by Shahbaz Khan

उत्‍तर प्रदेश में एक रिटायर्ड स्‍कूल टीचर की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। वह जालौन जिले में बेटी की शादी के लिए रुपए निकालने बैंक गए थे, जहां 8 घंटे तक लाइन में लगे रहने के बाद उन्‍हें हार्ट अटैक आया। 70 साल के रघुनाथ वर्मा को रुपए निकालकर मध्‍य प्रदेश के भीड़ जाना था क्‍योंकि 16 नवंबर को उनकी बेटी का तिलक समारोह होना था। वर्मा स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया की माधोगढ़ ब्रांच पर सुबह ही पहुंच गए थे, लेकिन काउंटर पर पहले से करीब 1000 लोग मौजूद थे। उन्‍हें अपनी बारी आने के लिए शाम तक इंतजार करना था। पूरे दिन वह बैंक अधिकारियों से जल्‍दी रुपए निकालने देने की गुजारिश करते रहे। रघुनाथ के बेटे रवि वर्मा ने हिदुस्‍तान टाइम्‍स से बातचीत में कहा, ”हमें शादी के खर्च के लिए 2 लाख रुपए चाहिए थे। मेरे पिता तीन दिन तक बैंक गए। उन्‍होंने कई बार बैंक मैनेजर्स से बात की कि उन्‍हें पैसे निकालने और नोट बदलने में मदद करें, लेकिन उन्‍होंने नहीं सुनी। शनिवार को वह मैनेजर के पैरों तक पर गिर गए थे।” 8 घंटे लाइन में खड़े रहने के बाद रघुनाथ को दिल का दौरा पड़ा और वह गिर पड़े। उन्‍हें पास के कम्‍युनिटी हेल्‍थ सेंटर ले जाया गया, मगर वहां उन्‍हें मृत घोष‍ित कर दिया गया।

केंद्र सरकार के फैसले के बाद छह दिनों के भीतर ही बैंकों के चक्कर काट रहे लोगों में से 25 लोगों की मौत हो चुकी है। अकेले यूपी में ही सात मौतों की खबर है। यूपी के बुलंदशहर में कैलाश हॉस्पिटल में इलाज ना मिलने से एक बच्चे की मौत हुई। उसके घरवालों के पास देने के लिए खुल्ले पैसे नहीं थे। यूपी के शामली इलाके में एक 20 साल की लड़की ने सुसाइड किया। बताया गया कि उसका भाई नोट बदलने के लिए गया था लेकिन वह सफल नहीं हो पाया। इसपर जब वह घर आया तो बहन को पंखे से लटकता पाया। कानपुर में एक महिला नोट गिनते-गिनते मर गई थी। पुलिस को उसके पास से 2.69 लाख रुपए की पुरानी करेंसी मिली थी। कानपुर में ही शख्स की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। बताया गया कि उस शख्स को नोटबंदी वाले फैसले पर पीएम मोदी का भाषण सुनते वक्त हार्ट अटैक आया था।

उत्तरप्रदेश के मैनपुरी में एक बच्चा इलाज के लिए भर्ती था लेकिन फैसला आते ही डॉक्टर्स ने उसका इलाज करना बंद कर दिया। उसे बहुत तेज बुखार था। बावजूद इसके, माता-पिता उसे घर ले आए। घरपर ही उसकी मौत हो गई।  यूपी के कुशीनगर जिले में एक महिला को नोटबंदी की जानकारी तब मिली जब वह 1000 के दो नोट बैंक में जमा करना गई। नोटबैन के बारे में पता लगते ही वह वहीं शॉक से मर गई। वह धोबिन थी और उसने वह पैसे काफी मेहनत से जोड़े थे।

उत्तरप्रदेश के फैजाबाद में एक शख्स की सीने में दर्द से मौत हो गई। पीएम मोदी का नोटबंदी वाला भाषण सुनते वक्त उसके सीने में दर्द शुरू हुई था। फिर वक्त पर इलाज ना मिलने से उसकी मौत हो गई।

बैंकों के बाहर भीड़ को कम करेंगे ये खास एटीएम, देखें वीडियो:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 9:20 pm

सबरंग