ताज़ा खबर
 

दिल्ली पुलिस ने कहा, आप नेताओं ने किसान गजेंद्र को खुदकुशी के लिए उकसाया

दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी और उसके नेताओं पर राजस्थान के किसान गजेंद्र सिंह को खुदकुशी के लिए उकसाने और उसे बचाने के पुलिस के प्रयासों में तमाम बाधाएं खड़ी करने का...
Author April 24, 2015 09:28 am
मामले में जांच की जिम्मेदारी अपराध शाखा को सौंपी गयी है। (फ़ोटो-पीटीआई)

दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी और उसके नेताओं पर राजस्थान के किसान गजेंद्र सिंह को खुदकुशी के लिए उकसाने और उसे बचाने के पुलिस के प्रयासों में तमाम बाधाएं खड़ी करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने दिल्ली सरकार की ओर से न्यायिक जांच का आदेश दिए जाने को खारिज करते हुए कहा कि यह मामला उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है।

आप की ओर से पुलिस पर किसान को बचाने के लिए कुछ नहीं करने का आरोप लगाए जाने के बाद पुलिस ने प्राथमिकी में कहा कि पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने सहयोग नहीं किया है। प्राथमिकी में कहा गया है कि यह पूर्ण रूप से एक ऐसी घटना है जहां आप के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने किसान को खुदकुशी के लिए उकसाया व उन्होंने पुलिस की अपीलों पर कोई ध्यान नहीं दिया।

भारतीय दंड संहिता की धाराओं 306 (आत्महत्या के लिए उकसाने), 186 (सार्वजनिक कार्यक्रम में लोक सेवक के काम में बाधा डालना) और 34 (साझा इरादा) के तहत संसद मार्ग थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। आप की रैली में तैनात रहे पुलिस निरीक्षक एसस यादव की शिकायत पर दो पृष्ठों की प्राथमिकी दर्ज की गई है।

इसमें कहा गया है कि दिन में करीब 12:50 बजे जब आप नेता भाषण दे रहे थे तो उन्होंने देखा कि कुछ लोग एक पेड़ की ओर देख रहे हैं और तालियां बजा रहे हैं जहां एक व्यक्ति झाड़ू लहरा रहा था। मैंने कंट्रोल रूम को सूचित किया और आप के कार्यकर्ताओं और दूसरे लोगों से कहा कि उसे उकसाए नहीं और नीचे उतारने में मदद करें। प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि मंच पर मौजूद नेताओं और कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ सहयोग नहीं किया।

यादव ने आगे कहा कि उसने वरिष्ठ अधिकारियों को फोन किया और सिंह को बचाने के लिए आप के कार्यकर्ताओं से फिर आग्रह किया। वे लोग यह कहते रहे कि पुलिस आप के खिलाफ है और वे उनको रैली के भीतर जाने की इजाजत नहीं देंगे। उन्होंने कहा- मैंने देखा कि उस व्यक्ति ने गमछा अपने गले में बांध लिया और गमछे का दूसरा हिस्सा पेड़ की डाल में बांध दिया। हमने अग्निशमन दल को फोन किया और उनसे आग्रह किया कि वे लंबी सीढ़ी लेकर पहुंचें।

यादव ने कहा, ‘उधर, आप कार्यकर्ता उसे तालियां बजाकर लगातार उकसाते रहे और आखिरकार उसने खुद को फांसी लगा ली।’ प्राथमिकी में यादव कहा कि कुछ लोग पेड़ पर चढ़ने का प्रयास कर रहे थे लेकिन हमने उनसे कहा कि अग्निशमन दल को बुलाया गया है और इस व्यक्ति को लंबी सीढ़ी की मदद से बचा लिया जाएगा। परंतु उन्होंने हमारे आग्रह पर ध्यान नहीं दिया और पेड़ पर चढ़ गए। इस प्रयास के दौरान व्यक्ति नीचे गिर गया। उनके अनुसार जब गजेंद्र सिंह को पुलिस के वाहन में अस्पताल ले जाने का प्रयास किया गया तो आप के कार्यकर्ताओं ने रास्ता रोक लिया और कहा कि वे उसे अस्पताल ले जाएंगे। हमने उन लोगों को हटाया और उस व्यक्ति को आरएमएल ले गए जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

किसान की आत्महत्या के मामले में दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह को एक विस्तृत रिपोर्ट सौंपी और मामले की जांच कर रही अपराध शाखा की एक टीम राजस्थान में मृतक के गांव गई।

मामले में जांच की जिम्मेदारी अपराध शाखा को सौंपी गयी है। गजेंद्र की पृष्ठभूमि के बारे में तफ्तीश करने और वे दिल्ली क्यों आए थे, इस संबंध में जानकारी जुटाने के लिए टीम राजस्थान के दौसा में नांगल झामरवाड़ा गांव भेजी गई है। जांचकर्ता उनके मोबाइल फोन रेकार्ड की भी जांच कर रहे हैं कि दिल्ली आने के बाद वे किसके संपर्क में थे। उन लोगों ने घटनास्थल का भी दौरा किया और कहा कि गजेंद्र को बचाने की कोशिश करने वाले लोगों से बातचीत की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.