May 26, 2017

ताज़ा खबर

 

टैबलेट देकर शिक्षकों का बोझ हल्का करेगी केजरीवाल सरकार

दिल्ली सरकार अपने स्कूलों के सभी शिक्षकों और प्राध्यापकों को टैबलेट देने की तैयारी कर रही है, ताकि उनके गैर-शैक्षणिक कामकाज को आसान बनाया जा सके।

Author नई दिल्ली | October 18, 2016 01:55 am

दिल्ली सरकार अपने स्कूलों के सभी शिक्षकों और प्राध्यापकों को टैबलेट देने की तैयारी कर रही है, ताकि उनके गैर-शैक्षणिक कामकाज को आसान बनाया जा सके। योजना के मुताबिक, दो महीने में सभी 51000 शिक्षकों और प्राध्यापकों सहित शिक्षा अधिकारियों को टैबलेट देने की कोशिश की जाएगी, जिसके लिए आईटी विभाग को प्रस्ताव तैयार करने का निर्देश दिया गया है। शिक्षकों के लिए यह फैसला तो जहां नए साल का तोहफा साबित होगा, लेकिन स्कूल से गायब रहने वाले विद्यार्थियों के लिए मुश्किल हो जाएगी। टैपलेट में अपलोड ऐप के जरिए न केवल परीक्षा के नतीजे तैयार किए जा सकेंगे बल्कि अनुपस्थित विद्यार्थी के माता-पिता को एसएमएस के जरिए इसकी सूचना खुद ही मिल जाया करेगी।

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, सोमवार को उपमुख्यमंत्री के निर्देश से शिक्षा निदेशालय की ओर से आईटी विभाग को शिक्षकों को एंड्रॉयड टैबलेट दिए जाने के संबंध में प्रस्ताव तैयार करने को कहा गया है। अधिकारी ने कहा, ‘शिक्षकों की सबसे बड़ी शिकायत रहती है कि क्लास लेने के बाद उनका अच्छा-खासा समय उपस्थिति सूची व रिजल्ट तैयार करने जैसे ही कई कामों में चला जाता है। टैबलेट में स्कूल से संबंधित ऐप पहले से ही होंगे जिससे उनका काम आसान हो जाएगा।’ इस योजना का शुरुआती बजट 50 करोड़ रुपए आकलित किया गया है और जरूरी फीचर्स के साथ एक टैबलेट की कीमत 10,000 रुपए आंकी गई है।

अधिकारी के अनुसार 50 हजार शिक्षकों में नियमित और गेस्ट टीचर दोनों शामिल हैं जिन्हें टैबलेट दिया जाएगा। इसके अलावा 1000 स्कूल प्रिंसिपल और कुछ शिक्षा अधिकारी भी शामिल होंगे। टैबलेट में मौजूद ऐप्स जरिए परीक्षा के नतीजे भी तैयार किए जाएंगे और नतीजों का पूरा रिकॉर्ड टैबलेट में अपलोड होगा। अधिकारी के मुताबिक, मार्च की परीक्षा के नतीजे तैयार करने में टैबलेट का ही इस्तेमाल किया जाएगा। हालांकि, शुरुआत हाजिरी लिए जाने से होगी और अन्य सॉफ्टवेयर अपलोड किए जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 18, 2016 1:53 am

  1. No Comments.

सबरंग