ताज़ा खबर
 

केजरीवाल के बदले सुर, विधानसभा सत्र में खुलासे के बजाए की केंद्र सरकार की तारीफ

भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान को उड़ी हमले का करारा जवाब दिए जाने के कारण दिल्ली विधानसभा में शुक्रवार को प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार को घेरने की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की योजना धरी की धरी रह गई।
Author नई दिल्ली | October 1, 2016 01:21 am

भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान को उड़ी हमले का करारा जवाब दिए जाने के कारण दिल्ली विधानसभा में शुक्रवार को प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार को घेरने की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की योजना धरी की धरी रह गई। विधानसभा के तय एजंडे को एक ओर करके मुख्यमंत्री केजरीवाल की अपील पर विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने सदन की कार्यवाही शाम करीब 4 बजे स्थगित कर दी। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान को दिए गए जवाब के समर्थन में प्रस्ताव पेश किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्र सरकार और भारतीय सेना के इस कदम का स्वागत किया। केजरीवाल सरकार ने शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया था। एक दिन के इस सत्र में आप सरकार अपनी पार्टी के कई विधायकों के खिलाफ पुलिस की ओर से एक कथित साजिश के तहत की जा रही कार्रवाई का खुलासा करने वाली थी। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही केजरीवाल उड़ी हमलों को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लेकर आए। उसके बाद उन्होंने भारतीय सेना की ओर से की गई जवाबी कार्रवाई का स्वागत किया। उन्होंने पाकिस्तान को इस तरह की हरकतों से बाज आने की चेतावनी दी। कई विधायकों ने केजरीवाल के इस प्रस्ताव का समर्थन किया।


विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने सदन में कहा कि इस प्रस्ताव में प्रधानमंत्री मोदी को भी बधाई दी जानी चाहिए। तभी केजरीवाल खड़े हुए और उन्होंने प्रधानमंत्री, केंद्र सरकार, रक्षा मंत्री और भारतीय सेना के समर्थन और उन्हें बधाई का प्रस्ताव सदन में रखा, जिसे पास कर दिया गया। इसके बाद सत्ता पक्ष के राजेंद्र गौतम ने राजधानी में जल जनित बीमारियों डेंगू और चिकनगुनिया से हो रहीं मौतों पर चर्चा का प्रस्ताव सदन में रखा। गौतम ने कहा कि ये बीमारियां मच्छरों की वजह से फैलती हैं। उन्होंने कहा कि नगर निगम में भ्रष्टाचार की वजह से सफाई नहीं हुई है। कैग की रिपोर्ट में भी नगर निगम को दोषी माना गया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने निगम को सफाई व अन्य कार्यों के लिए करोड़ों रुपए दिए हैं, लेकिन निगम ने अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई। अब जाकर वह लोगों को मच्छरों के लार्वा पनपने का नोटिस दे रहा है। अगर यही कदम पहले उठा लिया गया होता, तो दिल्ली में ऐसी स्थिति नहीं होती। सत्ता पक्ष की ही भावना गौर ने कहा कि घर-घर में लोग बीमार पड़े हुए हैं। कैग की रिपोर्ट कह रही है कि नगर निगम काम नहीं कर रहा है। चिकनगुनिया के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन निगम को कोई चिंता नहीं है।

विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि यह समय एक-दूसरे पर आरोप लगाने का नहीं है। सरकार को अधिकारियों के साथ चर्चा करके ऐसे कदम उठाने चाहिए, जिससे इस बीमारी पर रोक लगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली के तापमान के मुताबिक फिलहाल यह बीमारी एक महीने और हावी रहेगी। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि सरकार लगातार इस तरह की बीमारियों को लेकर अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठकें कर रही है। दिल्ली सरकार के अस्पतालों में एक हजार बिस्तर इस तरह की बीमारियों के लिए आरक्षित किए गए हैं। निजी अस्पतालों को भी कह दिया गया है कि वे कम से कम पैसे में ऐसे मरीजों का इलाज करें।

जैन ने कहा कि दिल्ली के अस्पतालों में अन्य राज्यों के काफी मरीज आ रहे हैं, लेकिन मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा है कि मरीज चाहे कहीं से भी आया हो, उसका इलाज होना चाहिए। भाजपा शासित निगमों पर हमला बोलते हुए जैन ने कहा कि नगर निगम सफाई नहीं कर रहा है, जिसकी वजह से राजधानी में गंदगी और बीमारियां फैल रही हैं। नगर निगम के पास फॉगिंग की 1200 मशीनें हैं, लेकिन राजधानी में फॉगिंग नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार मोहल्ला क्लीनिक खोल रही है, तो निगम उन्हें नोटिस भेज रहा है। विधायकों की गिरफ्तारी का मामला उठाते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उनके 16 विधायकों क ो केंद्र सरकार ने विभिन्न मामलों के तहत जेल में डाल रखा है। उनके एक विधायक अमानुतल्लाह खान पर एक मामला और दर्ज होने वाला है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 1, 2016 1:21 am

  1. No Comments.