ताज़ा खबर
 

दिल्‍ली: हल्‍के कोहरे में ही कैंसिल कर दी गई 7 ट्रेनें, ये 26 ट्रेनें चल रही लेट

Delhi Pollution, Smog News: राष्ट्रीय राजधानी में सुबह साढ़े पांच बजे दृश्यता 1500 मीटर दर्ज की गई जो सुबह साढ़े आठ बजे गिरकर 1,000 मीटर रह गई।
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (Express Photo)

राष्ट्रीय राजधानी में बुधवार सुबह भी जहरीली धुंध की स्थिति कायम रही। इस वजह से सात ट्रेनों को रद्द करना पड़ा और नौ ट्रेनों के समय में बदलाव करना पड़ा। रेलवे के मुताबिक, 26 ट्रेनें देरी से चल रही हैं, नौ ट्रेनों के वक्त में बदलाव किया गया है और सात ट्रेनों को रद्द किया गया है। मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि न्यूनतम तापमान 13.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। अधिकारी ने कहा कि आर्द्रता का स्तर सुबह साढ़े आठ बजे 91 प्रतिशत था।

राष्ट्रीय राजधानी में सुबह साढ़े पांच बजे दृश्यता 1500 मीटर दर्ज की गई जो सुबह साढ़े आठ बजे गिरकर 1,000 मीटर रह गई। दिल्ली करीब हफ्ते भर से घने स्मॉग की चपेट में है जिस वजह से अधिकारियों को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में निर्माण गतिविधियों और ईट भट्टों पर रोक लगाने जैसे आपातकालीन उपाय करने पड़े। शहर की आबोहवा में कुछ सुधार दिखने के बावजूद मंगलवार को वायु गुणवत्ता बहुत खराब बनी हुई थी। इस वजह से ईपीसीए को ट्रकों पर रोक लगाने जैसे आपातकालीन उपाए जारी रखने पड़े।

वहीं, राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने महिलाओं और दोपहिया वाहनों को सम-विषम योजना में छूट देने से मंगलवार को इनकार कर दिया। साथ ही उसने यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि दस वर्ष से ज्यादा पुराने हो चुके डीजल वाहनों को सड़क से तुरंत हटाया जाए। अधिकरण की ओर से मिली कड़ी फटकार के बाद दिल्ली सरकार ने अपनी वह अर्जी वापस ले ली, जिसमें उसने दोपहिया वाहनों और महिलाओं को सम-विषम योजना में छूट देने की इजाजत देने की बात कही गई थी।

अधिकरण ने प्रदूषण के उच्च स्तर से पर्यावरण और स्वास्थ्य के लिए पैदा हुई आपात स्थिति पर चिंता जताते हुए कहा कि शहर को अपने बच्चों को संक्रमित फेफड़ों का उपहार नहीं देना चाहिए। एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार के नेतृत्व वाले एक पीठ ने दिल्ली की आप सरकार को दिल्ली के सबसे प्रदूषित इलाकों की पहचान कर ऊंची इमारतों से पानी का छिड़काव करने का निर्देश दिया। हालांकि अधिकरण ने उन गैर प्रदूषणकारी उद्योगों को चलाने की इजाजत दे दी जो आवश्यक वस्तुओं का निर्माण करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.