March 25, 2017

ताज़ा खबर

 

दादरी कांड: अखलाक की हत्‍या के आरोपी के शव पर रखा तिरंगा, शहीद बता मांगा एक करोड़ का मुआवजा

ग्रामीणों ने रवि को शहीद करार देते हुए उसके शव पर तिरंगा रख दिया और सरकार से एक करोड़ रुपये के मुआवजा देने की मांग की है।

उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा के दादरी इलाके के बिसाहड़ा गांव में तनाव बरकरार है। इसबीच, ग्रामीणों ने रवि सिसोदिया का अंतिम संस्कार आज (गुरुवार को) भी नहीं होने दिया। ग्रामीणों ने रवि को शहीद करार देते हुए उसके शव पर तिरंगा रख दिया और सरकार से एक करोड़ रुपये के मुआवजा देने की मांग की है। इसके साथ ही गांव के हजारों लोग अखलाक हत्याकांड में नामजद सभी 17 लोगों को तुरंत रिहा करने की मांग पर गुरुवार को धरने पर बैठ गए। इसी कांड में नामजद 22 वर्षीय रविन सिसोदिया की मौत मंगलवार को किडनी और श्वसन तंत्र फेल हो जाने से हो गई थी। बीमारी के बाद पहले उसे नोएडा के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। बाद में तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर दिल्ली के लोकनायक जयप्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई।

एलएनजेपी के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जे सी पांडेय ने कल कहा था, “मरीज को किडनी फेल्यूर और हाई ब्लड शुगर जैसी बुरी दशा में दोपहर करीब 12 बजे लाया गया था लेकिन शाम 7 बजे तक किडनी फेल होने और सांस लेने में दिक्कत होने पर उसकी मौत हो गई।” गांववालों का आरोप है कि रविन और उसके साथ तीन और आरोपियों की जेल की पिटाई की गई है, जिसके बाद रविन को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी मौत हो गई। इसपर जेल प्रशासन का कहना है कि रविन फेफड़े के इन्फेंक्शन से पीड़ित था लेकिन पूरी रिपोर्ट आने के बाद ही इस बारे में कुछ बताया जा सकेगा।

वीडियो देखिए: दाह संस्कार से इनकार

रवि के परिजनों का कहना है कि उसे किडनी की कोई परेशानी नहीं थी। 30 सितंबर को उनलोगों ने कोर्ट में आवेदन दिया था कि चिकेनगुनिया का इलाज कराने के लिए उसे गौतम बुद्ध नगर के अस्पताल में भर्ती कराया जाय। इसबीच, बिसाहड़ा में वीएचपी की नेता साध्वी प्राची समेत दर्जनों गौरक्षक मौजूद हैं। गौरतलब है कि पिछले साल सितंबर में दादरी में मोहम्मद अखलाक की बीफ खाने के संदेह के आधार पर भीड़ ने पीट-पीटकर हत्‍या कर दी थी।

Read Also-अखिलेश यादव को झटका, सपा में फिर हुआ बाहुबली मुख्‍तार अंसारी की पार्टी का विलय

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 6, 2016 7:11 pm

  1. M
    MQ`
    Oct 8, 2016 at 10:59 am
    ी मर गया
    Reply
    1. S
      Sk
      Oct 7, 2016 at 9:15 am
      Accha hua mar a
      Reply
      1. A
        Ashraf
        Oct 7, 2016 at 7:56 pm
        इस्लाम के फ़ितरत अल्लाह ने इतनी लचक रखी है । जितना दबा ओगे उतना उभरेगा
        Reply
        1. A
          Anurudh Lal
          Oct 7, 2016 at 2:21 am
          Communalism को Nationalism की चादर चढ़ाना देश को विनाश की अोर ले जाने वाला कदम है .............. @anurudhlal
          Reply
          1. B
            Balendra Singh
            Oct 11, 2016 at 4:55 am
            Achha to Muslimo ke Liye tumhre chacha ne Police headquarter mein Laboratory laga rakhi hai kya ? Mathura Laboratory ki report nahi padi thi kya tumne ?
            Reply
            1. B
              Balendra Singh
              Oct 11, 2016 at 4:58 am
              पुरे वर्ल्ड में जाहिलो की एक हे कौम है जिसको तुम बिलोंग करते हो ! हर चीज़ में एक ऐसे बुक का रिफरेन्स देते हो जिसको पड़ने का तरीका ही अभी तक नहीं पता चल पाया है
              Reply
              1. B
                Balendra Singh
                Oct 11, 2016 at 5:07 am
                बहुत अच्छा बिचार हैं ! कभी समय मिले तो इन इस्लाम के पगाम्बरो के बारे में भी सोचना ! दुनिया के किसी कोने में अगर एक मुस्लिम मरता है तो उसकी खबर यहाँ इंडिया में बैठकर शेयर की जाती हैं, कभी सोचना ये मुस्लिम कितने बड़े नेशनलिस्ट हैं, देश की सेना में कितने मुस्लिम हैं रिसर्च करना | एन जाहिलो के लिए देश समाज से पहले इस्लाम की चिंता है| इन्हे कभी मुस्लिमो के खिलाफ बोलते नहीं देखोगे भले हे वो कितना बड़ा क्रिमिनल या टेररिस्ट हो ! मैं भी आप जैसे हे बिचार रखता था लेकिन इन जाहिलो ने सोच बदल दी
                Reply
                1. R
                  rehan
                  Oct 7, 2016 at 3:21 am
                  had ho gai desh ki san tringe ka itna apman tho hindustan me hi ho saktah hai ek katil ko jispe raterdroh ka mukdma hona chahiye thao or woh tho jail me tha ek katal k iljam use tirenge se lapeta ja rha ha kia baat hai fozio or desh k liye jan dene walo ki is se badi bejati nhi ho sakti inhe salo pe to cash chlna chahiey
                  Reply
                  1. S
                    sameer
                    Oct 7, 2016 at 5:36 am
                    REPORT PADHI HOTI TO YE COMMENT NAHI KARTA ..... IS KA VERSION UPDATED NAHI HE.
                    Reply
                    1. V
                      Vijay
                      Oct 6, 2016 at 11:52 pm
                      अकलाख के परिवार को ४० लाख रूपए दिए गए थे, साथ ही दो घर भी दिए गए थे. मगर ये तब था जब यह लग रहा था की जो मांस अकलाख के घर से बरामद हुआ है वो बीफ नहीं है. अब जब ये साबित हो चुका है की वो मांस बीफ ही था थो वह ४० लाख रूपये और घर वापस लेने चाहियें. मुसलमानों की चमचगिरी और बर्दाश्त नहीं की जानी चाहिए.
                      Reply
                      1. R
                        rehan
                        Oct 7, 2016 at 3:22 am
                        किसने साबित कर दिया की वह गाये का गोस्त था पुलिस की रिपोर्ट नही पढ़ी सायद अपने कोर्ट की के आदेश के बाद जो जाँच हुई
                        Reply
                        1. J
                          jibrailamin
                          Oct 7, 2016 at 6:09 am
                          kab saabit hua ke maas nahi that or beef tha?jhoot mat bol
                          Reply
                          1. A
                            alvi
                            Oct 7, 2016 at 3:24 pm
                            तुम जाहिल हो, chhtiyeeeee
                            Reply
                          2. S
                            Samb Shiva
                            Oct 7, 2016 at 2:32 am
                            mullayam's cult must be lynched & fed to K9s to enjoy iftar in holy month.
                            Reply
                            1. A
                              alvi
                              Oct 7, 2016 at 3:24 pm
                              शट उप उल्लू के पट्ठे अच्छा हुआ साल मर a
                              Reply
                            2. Load More Comments

                            सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

                            सबरंग