December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

लालू प्रसाद यादव ने करेंसी बैन को बताया काले धन पर “फर्जिकल स्ट्राइक”

अपने ट्वीट्स के जरिए मोदी सरकार के करेंसी बैन के फैसले को राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने इसे काले धन के खिलाफ फर्जी लड़ाई करार दिया है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव( फाइल फोटो)

केंद्र सरकार के 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों को बैन किए जाने के बाद से विपक्षी दलों का मोदी सरकार पर हमला तेज हो गया है। नोटों को बंद किेए जाने को लेकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने केंद्र सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाए हैं। फैसले की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि इस फैसले से क्या देश के सभी लोगों के बैंक खातों में 15 लाख रुपये जमा हो जाएंगे। लालू प्रसाद यादव ने यह बाते अपने ट्वीट के जरिए कही हैं।

केंद्र सरकार के इस फैसले को उन्होंने काले धन पर सर्जिकल स्ट्राइक नहीं बल्कि फर्जिकल स्ट्राइक बताया है। अपने ट्वीट्स के जरिए निशाना साधते हुए राजद प्रमुख ने कहा कि प्रधान मंत्री ने सिर्फ 50 दिन की परेशानी की बात कही है लेकिन इसके बाद लोगों के बैंक खातों में 15 लाख रुपये नहीं आते हैं तो यह फैसला काले धन पर फर्जिकल स्ट्राइक (फर्जी) होगी।

राजद प्रमुख ने 15 लाख रुपये वाली बात पर पीएम मोदी के 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान दिए गए उस भाषण पर घेरने की कोशिश की है, जिसमे उन्होंने विदोशों में इतना काला धन होने की बात कही थी कि सभी नागरिकों के बैंक खातों में 15 लाख रुपये पहुंच सके। राजद प्रमुख ने यह भी कहा कि वह काले धन के खिलाफ हैं लेकिन सरकार के इस फैसले में उन्होंने बड़ी रणनीतिक कमियां होने की बात कही।

उन्होंने कहा कि सरकार ने लोगों को इससे होने वाली परेशानी के बारे में नहीं सोचा। इसके अलावा उन्होंने मोदी सरकार पर सावाल उठाया
कि उन डिफॉटरों के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाएगी जो बैंकों से कर्ज लेकर भाग चुके हैं। आखिर में सरकार की भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की मंशा पर सवाल उठाते हुए उन्होंने पूछा कि बड़े नोटों को बंद करने के बाद सरकार ने 2000 रुपये का बड़ा नोट क्यों निकाला है।

 

वीडियो: नोटबंदी पर बीजेपी नेता सहस्रबुद्धे का विवादित बयान- “लोग राशन की लाइन में भी मर सकते हैं”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 15, 2016 11:37 am

सबरंग