March 26, 2017

ताज़ा खबर

 

एमपी: मुस्लिमों के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करनेवाले आरएसएस नेताओं को पकड़ने वाले पुलिसकर्मियों पर ही हुआ केस, सब हुए फरार

डीजीपी को सौंपे ज्ञापन में कहा गया है कि पुलिस अधिकारी नक्सलियों से ज्यादा संघ के कार्यकर्ताओं से डरते हैं।

Author October 16, 2016 11:28 am
बइहर एसडीएम ऑफिस के बाहर 2 अक्टूबर को खड़े लोग (फोटो-मिलिंद घटवई)

सोशल मीडिया पर मुस्लिमों के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करनेवालों के खिलाफ कार्रवाई करने पर अब पुलिसवालों को ही परेशान करने का मामला सामने आया है। जिन पुलिसवालों ने संघ नेता को गिरफ्तार किया था उनपर ही सरकार ने हत्या की कोशिश, लूट, जोर-जबर्दस्ती करने और आपराधिक धमकी देने जैसे कई संगीन आरोप मढ़ दिए हैं। वाकया मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले का है, जहां 26 सितंबर को पुलिस ने संघ कार्यकर्ता सुरेश यादव को व्हाट्स अप पर आपत्तिजनक पोस्ट करने पर गिरफ्तार किया था। जब पुलिवालों ने यादव को गिरफ्तार किया था तब संघ कार्यकर्ताओं ने धमकी देते हुए कहा, “तुम्हें पता नहीं, तुम किसे हाथ लगाने का दुस्साहस कर रहे हो। हम मुख्यमंत्री को पद से हटा सकते हैं, यहां तक कि प्रधानमंत्री को भी। हम सरकार बना सकते हैं और गिरा भी सकते हैं। तुम्हारी कोई औकात नहीं। अगर हम तुम्हारी वर्दी उतरवाने में असफल रहे तो संघ छोड़ देंगे।”

पीड़ित पुलिसवालों के परिजनों ने शुक्रवार को पुलिस महानिदेशक और आरक्षी महानिरीक्षक को तीन पन्नों का ज्ञापन सौंपकर न्याय की गुहार लगाई है। इन लोगों ने पुलिस के आलाधिकारियों से पूछा है कि उनके परिजनों को निष्पक्ष और भेदभाव किए बिना ड्यूटी करने पर परेशान क्यों किया जा रहा है? डीजीपी को सौंपे ज्ञापन में कहा गया है कि पुलिस अधिकारी नक्सलियों से ज्यादा संघ के कार्यकर्ताओं से डरते हैं। ज्ञापन में सुरेश यादव समेत संघ कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने की भी मांग की गई है। यादव दो दिन पहले ही जबलपुर अस्पताल से रिहा हुए हैं। बालाघाट रेंज के आईजी जे जनार्दन ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि आरोपी पुलिसवालों की पत्नियों समेत करीब 20 महिलाओं ने मुलाकात की है और शिकायत की है कि उनके पति को झूठे मुकदमें फंसाया गया है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच कर रही एसआईटी को उन्होंने ज्ञापन भेज दिया है।

Read Also- मध्य प्रदेश: बीजेपी विधायक कालूसिंह ठाकुर हुए लापता, परिवार ने थाने में दर्ज कराई शिकायत

वीडियो देखिए: वाराणसी में भगदड़

संघ नेता यादव को अपमानित और गिरफ्तार करने के विवादास्पद मामले की जांच के लिए राज्य सरकार ने एक एसआईटी का गठन किया है। मामले में एडिशनल एसपी राजेश शर्मा और स्थानीय थाना इंचार्ज जिया उल हक को सस्पेंड किया जा चुका है जबकि बालाघाट के आईजी डी सी सागर और एसपी असीत यादव का ट्रांसफर किया जा चुका है। जे जनार्दन ने 7 अक्टूबर को आईजी का पदभार संभाला है।

पुलिस को सौंपे गए ज्ञापन में आरोप लगाया गया है कि यादव और उसके समर्थकों ने पुलिवालों को न सिर्फ धमकी दी, अपमानित किया बल्कि उन्हें काम करने से रोका भी। ज्ञापन में कहा गया है कि आरएसएस, वीएचपी, बजरंग दल, गौरक्षा समिति और बाजेपी के करीब 1000 कार्यकर्ताओं ने पुलिस थानों को जलाने, दंगा भड़काने की धमकी दी थी। ऐसे हालात में पुलिसवालों ने थाने को बचाया लेकिन बदले में उन्हें ही फंसा दिया गया। इधर, बालाघाट में सोशल मीडिया पर आरोपी पुलिसवालों के समर्थन में एक मैसेज वायरल हो रहा है कि जब संघ के कार्यकर्ताओं से निपटना हो तो क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। लोगों के बीच पुलिस का हौसला गिराने से संबंधित एक पर्ची भी बांटा जा रहा है। फिलहाल सभी आरोपी पुलिसकर्मी फरार हैं।

Read Also-राज्यों में पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामलों में मध्य प्रदेश अव्वल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 16, 2016 8:58 am

  1. A
    Anarchist Slayer
    Oct 18, 2016 at 7:50 am
    बिलकुल. खुद ही बम फोड़ लिया उन्होंने अपने ऑफिस में. जैसे गोधरा केस में ट्रैन में आग भी खुद ही लगायी थी कारसेवको ने. जैसे २६-११ वाला अटैक भी आरएसएस ने प्लान किया था. आतंकवादी गतिविधियों का सामान मिला था तो कार्यवाही क्यों नहीं की? तुम्हारी ही सरकार है केरल में तो.
    Reply
    1. R
      raja
      Oct 17, 2016 at 12:12 pm
      mahodya jara aap kerla ki bhi news prasarit kare jaha roz hi rss aur bjp karyakarta ki hatya ho rahi hai tab to tumhari ma jati hai wo news dene me
      Reply
      1. A
        Anarchist
        Oct 18, 2016 at 1:23 am
        लो एक बार इस खबर को भी पढो .. . :www.hindkhabar/india/4399-rss-activists-arrested-with-weapons
        Reply
        1. A
          Anarchist
          Oct 18, 2016 at 12:55 am
          केरला में खुद आरएसएस /बीजेपी के कार्यालय में उन्ही मूर्खो कि बम बनाने के दौरान विस्फोट से मौते हो रही है.तब तो सरकार आँख मूँद कर सो रही होती है.अभी एक हफ्ते पहले ही फिर से उसी दफ्टर में आतंकवादी गतिविधियों का सामान मिला है .इसलिए पहले एक कि बम बनाते समय मौत भी हो चुकी है . कभी केरल होकर भी आओ तो कुछ पता चलेगा .
          Reply
        2. S
          sanjay nahar
          Oct 17, 2016 at 8:02 am
          shree man ji jesi bhasa ka upyog is lekh me kiya ja raha he ye sangh ki bhasa ho hi nahi saktior ha police ka kam he mamle ki janch karne ke baad us par loktantrik karywahi kare na ki kisike kahne pe sidhe jakar mar pit chalu kar de
          Reply
          1. A
            Anarchist
            Oct 18, 2016 at 12:57 am
            youtube है तो एक बार चालू करके खुद देख लो संघ की भाषा . बहुत सारे विडियो मिलेंगे ..
            Reply
            1. A
              Anarchist
              Oct 18, 2016 at 1:23 am
              :www.hindkhabar/india/4399-rss-activists-arrested-with-weapons
              Reply

            सबरंग