ताज़ा खबर
 

अमेठी में कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने

गांधी परिवार की सीट अमेठी पर कब्जे को लेकर स्मृति ईरानी और राहुल गांधी बिल्कुल आमने-सामने हैं। जिससे अमेठी का निकाय चुनाव लोकसभा चुनाव के बराबर है।
Author अमेठी | October 27, 2017 01:15 am
आमने-सामने राहुल गांधी और स्मृति ईरानी

गांधी परिवार की सीट अमेठी पर कब्जे को लेकर स्मृति ईरानी और राहुल गांधी बिल्कुल आमने-सामने हैं। जिससे अमेठी का निकाय चुनाव लोकसभा चुनाव के बराबर है। इस चुनावी घमासान का परिणाम 2019 का सेमीफाइनल होगा। अमेठी में दो नगरपालिका और दो नगरपंचायतें हैं। इसमें जायस और गौरीगंज नगरपालिका है। बाकी अमेठी और मुसाफिरखाना नगर पंचायते हैं। गौरीगंज नगरपालिका को छोड़कर जायस मुसाफिरखाना और अमेठी की सामान्य सीट है। जबकि गौरीगंज अनसूचित जाति महिला के नाम है। निकाय चुनाव राजनीतिक दलों के चुनावी निशान पर होंगे। जिससे निकाय चुनाव में टिकट को लेकर अमेठी से दिल्ली तक घमासान मचा है। भाजपा और कांग्रेस का टिकट जमींनी सर्वे पर तय होगा। लेकिन अमेठी में भाजपा का टिकट केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी खुद तय करेंगी। बाकी कांग्रेस का टिकट चुनाव कमेटी तय करेगी। गौरीगंज नगरपालिका पहली बार बनी है। मगर आरक्षण में गौरीगंज नगरपालिका की पहली कुर्सी अनुसूचित जाति महिला के नाम है। अमेठी जनपद का मुख्यालय गौरीगंज में है। जिससे गौरीगंज नगरपालिका सबसे महत्वपूर्ण बन चुकी है। इस नगरपालिका पर कब्जे को लेकर सभी दलों की सीधी नजर है। गौरीगंज नगरपालिका की नई सीट पर कब्जे को लेकर स्मृति ईरानी की पूरी टीम एक हो चुकी है। अमेठी के निकाय चुनाव में भाजपा के तीन मंत्रियों की इज्जत मतदाता के चौखट पर है। इसमें केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी खुद अमेठी की प्रभारी हैं। जिससे इनकी नजर अमेठी के निकाय चुनाव पर है। अमेठी के निकाय चुनाव में ईरानी का सम्मान बचाने के लिए पूरी भाजपा एक है। इसके लिए गौरीगंज नगरपालिका में रैदास समाज की गीता देवी पत्नी ददन कुमार को चेहरा पेश कर चुके हैं। नगरपालिका में आने वाले 8 ग्राम प्रधान और दर्जनभर क्षेत्र पंचायत सदस्य गीता देवी के नाम पर प्रचार में जुटे हैं।

गीता देवी ज्ञान सिंह के चालक ददन कुमार की पत्नी है। स्मृति ईरानी 2014 में अमेठी के लोकसभा चुनाव का संचालन आलोक ढाबे से किया था। जिससे ईरानी और ज्ञान सिंह के पारिवारिक रिश्ते किसी से छिपे नहीं हैं। कांग्रेस भाजपा को हराने के लिए मजबूत उम्मीदवार की तलाश में है। इसके लिए कांग्रेस में जमींनी सर्वे की रिपोर्ट पर उम्मीदवारों का चयन होगा। फैजाबाद मंडल में निकाय चुनाव की प्रभारी रामपुर की कांग्रेस विधायक आराधना मिश्रा हैं। अराधना मिश्रा ने कहा कि फैजाबाद मंडल की सभी सीट कांग्रेस के खाते में जाएगी। इसके लिए जिताऊ और टिकाऊ उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा। उम्मीदवारों के चयन में पूरी तरीके से ईमानदारी बरती जाएगी। जबकि कांग्रेस में टिकट के लिए सबसे ज्यादा आवेदन है। सपा के गौरीगंज विधायक राकेश सिंह ने कहा कि जनपद की चार सीट के लिए 6 आवेदन आए हैं जिसमें जाएस और गौरीगंज में दो दो बाकी अमेठी और मुसाफिरखाना में एक-एक आवेदन हैं।
चुनावी घमासान पर संघ से जुड़े राजेश सिंह ने कहा कि विधानसभा चुनाव की तरह निकाय चुनाव भी भाजपा के पक्ष में होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.