ताज़ा खबर
 

छत्तीसगढ़: CRPF के जवानों पर छात्राओं से छेड़छाड़ का आरोप

कलेक्टर ने बताया कि कार्यक्रम के दूसरे दिन एक अगस्त को छात्रावास की अधीक्षिका ने शिकायत की कि सुरक्षा बल के जवानों ने सुरक्षा के नाम पर छात्राओं की तलाशी ली जबकि पुरुष सुरक्षा कर्मियों को महिलाओं या छात्राओं की तलाशी लेने का अधिकार नहीं है।
Author रायपुर | August 8, 2017 03:04 am
चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (फाइल फोटो )

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में सुरक्षा बल के जवानों पर पिछले सप्ताह रक्षाबंधन के कार्यक्रम के दौरान छात्राओं से छेड़छाड़ का आरोप लगा है। जिला प्रशासन ने मामले की जांच शुरू कर दी है।  दंतेवाड़ा जिले के कलेक्टर सौरभ कुमार ने बताया कि जिले के कुंआकोंडा थानाक्षेत्र के अंतर्गत पालनार गांव में शासकीय छात्रावास स्कूल में पिछले महीने की 31 तारीख को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने रक्षाबंधन कार्यक्रम का आयोजन किया था। सुरक्षा बल के जवानों पर आरोप है कि उन्होंने इस दौरान स्कूल की छात्राओं के साथ छेड़छाड़ की। कुमार ने बताया कि जिला प्रशासन ने मामले की जांच के लिए पांच सदस्यीय दल का गठन किया है, वहीं स्थानीय पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। कुमार ने बताया कि अर्द्धसैनिक बल पिछले लगभग नौ वर्षों से पालनार गांव में रक्षाबंधन के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है। इसी तरह का आयोजन पिछले महीने की 31 तारीख को भी किया गया। इस कार्यक्रम में छात्रावास की लगभग पांच सौ छात्राओं ने अर्द्धसैनिक बलों के जवानों की कलाइयों में राखी बांधी। इस कार्यक्रम का प्रसारण एक स्थानीय समाचार चैनल पर किया गया। कलेक्टर ने बताया कि कार्यक्रम के दूसरे दिन एक अगस्त को छात्रावास की अधीक्षिका ने शिकायत की कि सुरक्षा बल के जवानों ने सुरक्षा के नाम पर छात्राओं की तलाशी ली जबकि पुरुष सुरक्षा कर्मियों को महिलाओं या छात्राओं की तलाशी लेने का अधिकार नहीं है।

कुमार ने बताया कि शिकायत के बाद उन्होंने दूसरे दिन दो अगस्त को दंतेवाड़ा पुलिस अधीक्षक और सीआरपीएफ के उप महानिरीक्षक के साथ छात्रावास का दौरा किया और अधीक्षिका और अन्य महिला अधिकारियों के सामने छात्राओं से बातचीत की। छात्राओं ने बताया कि जब वे शैचालय से लौट रही थीं तब दो वर्दीधारी लोगों ने उनकी तलाशी ली।
कलेक्टर ने बताया कि छात्राओं के अनुसार, एक सुरक्षाकर्मी ने उनकी तलाशी ली जबकि एक अन्य सुरक्षाकर्मी वहां मौजूद था। छात्राओं के बयान के आधार पर मामले की जांच के लिए पांच सदस्यीय दल का गठन किया गया है जिसमें दंतेवाड़ा जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, एसडीएम, जिला शिक्षा अधिकारी और तहसीलदार शामिल हैं। वहीं इस मामले में कुंआकोंडा थाना में दो सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ मामला भी दर्ज कराया गया है। आरोपियों की पहचान अभी नहीं हो पाई है।

कलेक्टर ने बताया कि छात्रावास परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज की भी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस मामले को लेकर वे लगातार सीआरपीएफ अधिकारियों के संपर्क में हैं। प्रयास किया जा रहा है कि जल्द ही आरोपियों की पहचान हो सके। वहीं सीआरपीएफ भी अपने स्तर पर मामले की जांच कर रहा है। इधर आम आदमी पार्टी की नेता सोनी सोरी ने आरोप लगाया है कि स्थानीय अधिकारी मामले में लीपापोती करने की कोशिश कर रहे हैं। सोरी ने कहा कि घटना की जानकारी मिलने के बाद वे जब पीड़ित छात्राओं से मिलने छात्रावास गईं तब उन्हें छात्राओं से नहीं मिलने दिया गया। बाद में उन्होंने करीब के गांव में लड़कियों से बात की जो उस स्कूल में पढ़ती हैं। अभी तक जानकारी मिली है कि सुरक्षाकर्मियों ने शौचालय तक लड़कियों का पीछा किया और उनसे छेड़छाड़ की। सोरी ने आरोप लगाया है कि जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों ने मामले को दबाने के लिए पीड़ित छात्राओं को धमकाया है। उन्होंने दोषियों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग