ताज़ा खबर
 

गांव में नहीं एक भी मोबाइल टावर फिर भी बना कैशलेस, पीएम नरेंद्र मोदी ने जिला प्रशासन को किया सम्मानित

जिलाधिकारी सौरभ कुमार ने दंतेवाड़ा जिले को कैशलेस बनाने के लिए मुहिम चलाई।
Author दंतेवाड़ा | April 22, 2017 16:27 pm
पलनार गांव जिला प्रशासन की तरफ से जिलाधिकारी सौरभ कुमार ने मोदी द्वारा सम्मान प्राप्त किया। (Express photo by Amit Mehra)

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा डिजीटल इंडिया को बढ़ावा दिया जा रहा है। मोदी का सपना है कि पूरा देश कैशलेस बने ताकि किसी भी प्रकार का भ्रष्टाचार न हो पाए। पीएम के इस सपने को साकार करने के लिए एक कदम छत्तीसगढ़ राज्य ने उठाया है। राज्य का नक्सल प्रभावित क्षेत्र दंतेवाड़ा का एक गांव पूरी तरह से कैशलेस हो चुका है। इस पहल के लिए शुक्रवार को पीएम मोदी द्वारा जिला प्रशासन को सम्मानित किया गया है। पलनार गांव जिला प्रशासन की तरफ से जिलाधिकारी सौरभ कुमार ने मोदी द्वारा सम्मान प्राप्त किया। इस मामले में सबसे खास और चौंकाने वाली बात तो यह है कि इस गांव में एक भी मोबाइल टावर नहीं है लेकिन फिर भी गांव पूरी तरह कैशलेस बन गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले साल केंद्र सरकार द्वारा देश में नोटबंदी किए जाने के बाद देशवासियों से देश को कैशलेस बनाने की विन्नती की गई थी। जिसके बाद जिलाधिकारी सौरभ कुमार ने दंतेवाड़ा जिले को कैशलेस बनाने के लिए मुहिम चलाई। इसके लिए उन्होंने विभिन्न विभाग के अधिकारियों, समाजसेवियों और कई संस्थानों की 11 अनुभवी टीमों को गठित किया। इन टीमों ने गांव-गांव जाकर दुकानदारों और स्थानीय लोगों को कैशलेस के प्रति जागरुक किया। उन्हें बताया कि कैसे कैशलेस ट्रांसेक्शन किया जाता है। इस मुहिम के तहत करीब 13 हजार लोगों को डिजीटल ट्रांसेक्शन के लिए ट्रेनिंग दी गई। इसी के साथ एक महीने के अंदर ही पांच हजार से ज्यादा लोग डिजीटल टीम के साथ जुड़कर जिले के लोगों को जागरुक करने का काम करने लगे।

इस मामले पर बात करते हुए जिलाधिकारी सौरभ कुमार ने कहा कि पलनार गांव को कैशलेस बनाना आसान काम नहीं था। इसके लिए हमने काफी मेहनत की लेकिन हमें इसमें सफलता हाथ लगी जिससे हम बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा कि इस गांव को कैशलेस बनाना सबसे मुश्किल इसलिए था क्योंकि यहां पर एक भी मोबाइल टावर नहीं था। सौरभ ने कहा कि कैश ट्रांसेक्शन के लिए कनेक्टिविटी होना काफी जरूरी होता है, इसलिए हमने इसे बढ़ावा देने के लिए मुफ्त वाईफाई इंटरनेट सुविधा के लिए बीएसएनएल को इसमें जोड़ा। उन्होंने कहा कि हमारी मेहनत रंग लाई और अब हर दुकानदार के पास ई-पेमेंट की सुविधा है और क्षेत्र में फ्री वाईफाई है जिससे कि कैशलेस ट्रांसेक्शन में आसानी हो रही है।

देखिए वडियो - छत्तीसगढ़ कोर्ट ने DU प्रोफेसर जीएन साईबाबा समेत 5 को दी उम्र कैद की सजा; माओवादियों से था संबंध

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.