ताज़ा खबर
 

यूपी पंचायत चुनाव: मुस्लिम से शादी करने वाली हिंदू महिलाओं को लोगों ने जिताया

यूपी में हाल में हुए पंचायत चुनावों में कई ऐसी महिलाएं जीती हैं जो हिंदू हैं, लेकिन उन्‍होंने शादी मुस्लिम से की है। इन सभी ने अपनी शादी सरकार के रिकॉर्ड में रजिस्‍टर्ड करवा रखी है।
लखामीपुर खीरी के बिजुआ-5 वार्ड से चुनाव जीत चुकीं राजपत चौधरी।
यूपी में हाल में हुए पंचायत चुनावों में कई ऐसी महिलाएं जीती हैं जो हिंदू हैं, लेकिन उन्‍होंने शादी मुस्लिम से की है। इन सभी ने अपनी शादी सरकार के रिकॉर्ड में रजिस्‍टर्ड करवा  रखी है। इस राज्‍य में जाति और धर्म दोनों लोगों के लिए काफी मायने रखते हैं। इसके बावजूद लोगों ने मुस्लिम पुरुषों की हिंदू पत्नियों को जिता कर एक मिसाल कायम की है। खास बात यह है कि ऐसा सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील माने जाने वाले मुजफ्फरनगर में भी हुआ है। ये महिलाएं अब जिला पंचायत की प्रमुख बनने के लिए दौड़ में हैं।
अनुसूचित जाति (एससी) की महिलाओं के लिए आरक्षित सीटों पर मुस्लिम से शादी करने वाली महिलाओं ने सबसे ज्‍यादा संख्‍या में बिजनौर जिले में जीत दर्ज की है। यहां ऐसी तीन महिलाएं हैं। इनमें से एक हैं मोहम्‍मद हुसैन से शादी करने वालीं सुनीता उर्फ सितारा। वह मोहम्‍मदपुर देवमाल III वार्ड से जीती हैं। उन्‍हें हुसैन से प्‍यार हुआ और 2009 में दोनों ने शादी कर ली। हुसैन बताते हैं कि उनके परिवार ने इस निकाहा को मान लिया है। सितारा की जीत के बारे में उनका कहना है, ‘उसने पहली बार लड़ा और जीत गई, क्‍योंकि सभी धर्मों के लोगों ने उसका समर्थन किया।’
एक और दलित सोनी ने नजीबाबाद-II वार्ड से जीत दर्ज की है। उन्‍होंने आठ साल पहले शहाबुद्दीन से शादी की थी। उनका कहना है कि सोनी आज भी हिंदू धर्म ही निभा रही है। बिजनौर में जीतने वाली तीसरी महिला सोनी है। उन्‍होंने लतीफ से शादी की है। वह नजीबाबाद-I से जीती हैं।
मुजफ्फरनगर में पुरकाजी-II वार्ड से जीतने वाली छोटी की आमिर अली से हुई थी। उनकी दो बीवियां हैं। छोटी के बारे में अली कहते हैं, ‘हमें प्‍यार हुआ और 2008 में हमने शादी कर ली।’ छोटी राजनीतिक रूप से काफी सक्रिय हैं। वह पुरकाजी विधानसभा क्षेत्र में समाजवादी पार्टी की मुख्‍य प्रतिनिधि भी हैं।
लखीमपुर खीरी में राजपत चौधरी बिजुआ-V अवॉर्ड से जीती हैं। उन्‍होंने जलालुद्दीन से शादी की है। वह पास के ही प्राइवेट कॉलेज में प्रिंसिपल हैं। राजपत का दिल बचपन से ही जलालुद्दीन पर आ गया था। उन्‍होंने 2001 में शादी की। वह बताती हैं, ‘दोनों परिवारों में पहले से दोस्‍ती थी। हमें कोई विरोध नहीं झेलना पड़ा। मैं मंदिर भी जाती हूं और दरगाह भी। मुझ पर किसी तरह की पाबंदी नहीं है।’ राजपत भी राजनीति में सक्रिय हैं। वह समाजवादी पार्टी की महिला ईकाई की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की सदस्‍य हैं। उन्‍होंने 2012 में सीतापुर में हरंगांव से विधानसभा चुनाव भी लड़ा था।
Read Also:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ankush Devdhar
    Nov 16, 2015 at 7:19 pm
    इन माों की जांच होनी चाहिए क्योंकि शादी के बाद पति की जाति ही औरत की जाति होती है, फिर कैसे इन्होने एस.सी. (आरक्षित) से चुनाव लड़ा, क्योंकि एक मुस्लिम से शादी करने के बाद उनकी एस.सी. (आरक्षित) का प्रमाण पत्र अवैध माना जाएगा l उत्तर प्रदेश के साथी इसके खिलाफ आवाज उठायें l
    Reply
    1. K
      kheri town
      Nov 17, 2015 at 10:22 am
      आज छुट्टी है कल तुम उठा देना
      Reply
      1. K
        kheri town
        Nov 17, 2015 at 10:26 am
        गंगा जमुना तहजीब है .प्यार का कोई मजहब नहीं होता है लेकिन ये बात आरएसएस वायरस ग्रस्त लोगो को समझ नहीं आएगी .
        Reply
        1. N
          nc
          Nov 16, 2015 at 12:25 pm
          भारत में खासकर हिन्दुओ में जातपात आज भी है भेदभाव इतना है निचली वर्ग के लोग धर्म त्याग कर दूसरे धर्म ग्रहण कर लेते है इन भेदभाव को दूर करने की बात करने वाला कोई नहीं है !
          Reply
          1. P
            Pavan Satyarthi
            Nov 17, 2015 at 9:36 am
            ye samajvadi party dwara prayojit rajneeti ka hissa lag rha hai. lekin iske bavjood achchi khabar hai..rajneeti me aisi achhi ghatnaen kbhi kbhi hi ghatati hain....thanks politics...
            Reply
            1. R
              Rajehs
              Nov 17, 2015 at 5:08 pm
              Ghand mein lond thok denge.
              Reply
              1. R
                Rajehs
                Nov 17, 2015 at 5:08 pm
                पूरा खानदान है .
                Reply
                1. S
                  sanjay kokate
                  Nov 21, 2015 at 1:43 pm
                  हिन्दू धर्म है
                  Reply
                  1. R
                    Raju Yadav
                    Nov 16, 2015 at 4:19 pm
                    ऐसी न्यूज़ लिखने से पहले अपना पेपर बंद करो जनसत्ता वालों .... देश द्रोही हो तुम सब | इसे तुम सब अछा कह रहे हो वो दिन दूर नहीं जब तुम्हे इसी घिनोनी जिंदगी जीना पड़ेगी जैसे मुस्सल्ले जीते हैं .... उस जनता पे ार है .. जिस दिन उनकी बहु बेटी या बेहेन जेक के किसी मुसद्दी से शादी करेगी तब भी ऐसी ही न्यूज़ लिखना
                    Reply
                    1. M
                      M Nisar
                      Nov 16, 2015 at 5:00 pm
                      तुम हो पब्लिक नहीं .
                      Reply
                    2. Load More Comments
                    सबरंग