ताज़ा खबर
 

10 लाख रुपए जमा किए जाने पर आयकर विभाग ने दिया जूते बनाने वाले मोची को नोटिस

जूनागढ़ शहर के एक मोची को आयकर विभाग से नोटिस मिला है।
10 लाख रुपए जमा किए जाने पर आयकर विभाग ने दिया जूते बनाने वाले मोची को नोटिस

जूनागढ़ शहर के एक मोची को आयकर विभाग से नोटिस मिला है। उससे नोटबंदी की अवधि के दौरान उसके बैंक खाता में जमा कराए गए 10 लाख रुपए का स्रोत बताने को कहा गया है। हालांकि, उसने इस तरह के किसी भी ट्रांजैक्शन से इंकार किया है। शहर में एम जी रोड इलाके में मोची का काम करने वाले मनसुख मकवाना (55) को तब झटका लगा जब शनिवार को उन्हें आयकर विभाग से नोटिस मिला। उन्हें यह नोटिस उस रास्ते पर दिया गया जहां वह अपनी आजीविका के लिए जूतों की मरम्मत करने का काम करते हैं।

मकवाना ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं सकते में हूं। मैंने अपने जीवन में कभी इतना धन नहीं कमाया। मैं बमुश्किल रोजाना 200 रच्च्पये कमाता हूं, तब मैं कैसे इतनी बड़ी रकम जमा कर सकता हूं। इस नोटिस ने मुझे इतना डरा दिया कि मैं एक क्षण आत्महत्या करने की सोचने लगा।’ मकवाना पास के चिंबावाड़ी गांव के रहने वाले हैं और पिछले 25 वर्षों से जूनागढ़ शहर में उसी स्थान पर मोची का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनका बैंक आॅफ बड़ौदा में एक जनधन खाता है।

जूनागढ़ से भाजपा के विधायक महेंद्र मशरू मकवाना से मिलने पहुंचे। उन्होंने कहा कि मकवाना को हो सकता है कि आयकर विभाग की ओर से कुछ तकनीकी मुद्दे की वजह से नोटिस मिला हो। उन्होंने दावा किया कि मकवाना के बैंक खाते में कोई भी संदिग्ध लेन-देन का कोई साक्ष्य नहीं है और उन्होंने आश्वस्त किया कि जरूरत पड़ने पर वह उनके साथ आयकर विभाग के पास जाएंगे।

आपको बता दें कि आयकर विभाग ने नोटबंदी के बाद संदिग्ध बैंक जमाओं के लिए जांच दायरे में आए 18 लाख लोगों या खाताधारकों में से लगभग आधे को ‘संदिग्ध’ की श्रेणी में रखा है। लेकिन इनके खिलाफ कार्रवाई नई कर छूट योजना की अवधि समाप्त होने पर ही की जाएगी। इस योजना की अवधि 31 मार्च को समाप्त होगी। आयकर विभाग ने नोटबंदी की अवधि के दौरान पांच लाख रुपए से अधिक की बैंक जमा करवाने वाले 18 लाख लोगों को अपने आपरेशन क्लीन मनी के तहत एसए देने को कहा थ।

RBI ला रहा है 200 रुपए का नोट? सरकार की मंजूरी के बाद जून में शुरु होगी प्रिंटिंग!

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग