March 29, 2017

ताज़ा खबर

 

…तो क्या पंजाब चुनाव में कांग्रेस की जीत चाहती है बीजेपी !

बीजेपी को डर है कि अगर आम आदमी पार्टी पंजाब में जीतती है तो उसके लिए गोवा और गुजरात में भी बड़ी मुश्किल खड़ी करेगी। बीजेपी को लगता है कि लंबे राजनीतिक सफर में आप कांग्रेस से ज्यादा खतरनाक है।

Author October 2, 2016 08:38 am
सुखबीर सिंह बादल (एक्सप्रेस फोटो-प्रेम नाथ पांडेय)

पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल अपने सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी को यह समझाने में नाकाम रह गए कि दिल्ली में बीजेपी आम आदमी पार्टी को थप्पड़ न मारे क्योंकि उसका खामियाजा पंजाब चुनावों में बीजेपी-अकाली दल गठबंधन को भुगतना पड़ सकता है। सुखबीर सिंह बादल का मानना है कि आम आदमी पार्टी पंजाब में यह बात समझाने में कामयाब हो रही है और जनता के बीच माइलेज पा रही है कि उसे केन्द्र सरकार दिल्ली में जानबूझकर प्रताड़ित कर रही है। बीजेपी जो पंजाब में आंकड़ों में कहीं नही है, वह महसूस करती है कि उसकी सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल के खिलाफ राज्य में तगड़ा एंटी इनकमबेंसी फैक्टर काम कर रहा है। लिहाजा, आगामी चुनावों में उसका जीत पाना मुश्किल लगता है। ऐसी स्थिति में बीजेपी चाहती है कि पंजाब में अरविंद केजरीवाल की पार्टी आप की जगह कांग्रेस जीते और कैप्टन अमरिंदर सिंह मुख्यमंत्री बनें। बीजेपी को डर है कि अगर आम आदमी पार्टी पंजाब में जीतती है तो उसके लिए गोवा और गुजरात में भी बड़ी मुश्किल खड़ी करेगी। बीजेपी को लगता है कि लंबे राजनीतिक सफर में आप कांग्रेस से ज्यादा खतरनाक है।

गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पंजाब में पार्टी की जीत सुनिश्चित कराने के लिए पिछले कई महीनों से वहां लगातार दौरे कर रहे हैं। वो हर हाल में पंजाब में 2017 के विधानसभा चुनावों में सत्ता पर कब्जा करने की कोशिश में हैं। इसके लिए उन्होंने कई रणनीति बनाई है। इसी के तहत दलित वोट बैंक को साधने के लिए आप ने अनुसूचित जाति (एससी) के लिए अलग से घोषणा पत्र जारी करने का प्रस्ताव दिया है। पार्टी ने कहा कि समुदाय के साथ वोट बैंक के तौर पर ‘सलूक’ किया गया है, जबकि उनकी मांगों की बार-बार अनदेखी की गई है। पंजाब में अनुसूचित जाति की सबसे अधिक आबादी है। बीजेपी को नुकसान पहुंचाने के मकसद से ही आप ने पार्टी के तेज तर्रार नेता नवजोत सिंह सिद्धू को बीजेपी से अलग करा लिया।

Read Also-आम आदमी पार्टी के पूर्व पंजाब संयोजक सुचा सिंह छोटेपुर ने बनाई नई पार्टी ‘अपना पंजाब’

चुनावों के मद्देनजर आम आदमी पार्टी ने प्रत्‍याशियों की पहली लिस्‍ट जारी कर पंजाब के हर वर्ग को लुभाने की भी कोशिश की है। 19 प्रत्‍याशियों की पहली लिस्ट में डॉक्टर, इंजीनियर, वकील, खिलाडी, पूर्व-सैनिक, समाज सेवी, पार्टी कार्यकर्ताओ को टिकट दिया गया है। पंजाब में कुल 117 विधानसभा सीटें हैं। पंजाब में आप की लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मोदी लहर के बावजूद 2014 के लोकसभा चुनावों में 4 सीटें जीती थीं।

Read Also-पंजाब चुनाव से पहले ‘पंगेबाज’ सांसदों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी ‘आप’

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 2, 2016 8:30 am

  1. A
    Anilkumar Varude
    Oct 2, 2016 at 6:22 am
    ये विष्लेशन एक पनका नमुना है, आप'की हैसीयत क्या है, जनाधार और राजनिती क्या है इसे पुरे भारतवासी जान चुके है, खुद आन्ना हजारेभी पछता रहे है,आपी'योंकी औकात देककर !!
    Reply
    1. R
      Rajendra Sihag
      Oct 3, 2016 at 6:26 am
      इस लेख मे मोदी जी की कार्यकुशलता पर कोई प्रश्नचिन्ह नहीं लगाया गया है, Aap की लहर से सभी दल डरे हुए है, BJP को आगामी चुनाव जीतने है तथा सतारूढ़ पार्टी होने के कारण अपनी छवि धूमिल होने का भय भी है एसलिए वो हर हाल मे aap असफल करने की हर कौशिश करेंगे ,अब फैसला पंजाब की जनता के हाथ मे है अगर वो ी माइनों मे भ्रष्टाचार और पंजाब को नशा मुक्त राज्य बनाना चाहते है तो AAP को एक मौका देंगे ।
      Reply
      1. R
        raj
        Oct 2, 2016 at 3:13 pm
        ब्लेकमेलरों, अय्याशो और धर्म के नाम पे लोगों को लड़वाने वाले लोगो का झुण्ड है आप
        Reply
        1. R
          rama shanker
          Oct 2, 2016 at 12:17 pm
          ये बात बिलकुल ी है की आप कांग्रेस से ज्यादा खतरनाक है क्योंकि आप का काम करप्शन को मिटाना है जैसा की ये डेल्ही में कर रही है जबकि कांग्रेस करप्शन में सनी हुई है और बीजेपी और कॉन्ट्रेस दोनों नहीं चाहते की करप्शन खत्म हो. मेरा आपना सोचना है की पंजाब में आप के जीतने के बाद आप पार्टी पुरे देश में १५ सालो में छा जाएगी और तब बीजेपी और कांग्रेस मिल कर चुनाव लड़ेंगे और चुनाव चिन्ह होगा हाथ में क का फूल.मोदी के २ सालो के शाशन में कही से ऐसा नहीं लगता है की जरा सा भी बदलाव आया है
          Reply
          1. V
            vikash singh
            Oct 2, 2016 at 7:03 pm
            रआमा शंकर आपने जो बोला अपने भेजे के सोचने की कैपिसीटी से बोला ये ी भी किया क्योकि इंसान को उतना ही बोलना चाहिए जितना भेजे मे जाता हो..तुम्हारे भेजे जैसे इंसान को ठगने के लिए केजरी पैदा हुआ है...वरना दिल्ली का ा हाल तो तब भी उतना नही था जब कांषग्रेस थी..रही बात बीजेपी कांग्रेस के साथ जाने का तो..एक काम कर एक सरवे करवा ले सोशल मिडीया पर पता चल जायेगा कि कौन किसका अपग्रेड भर्जन है...९९% ही बोलेगे केजरी का डीएनए राहुल से मैच कर रहा है।
            Reply
            1. N
              NAVNEET MANI
              Oct 2, 2016 at 5:31 pm
              केजरी का काम है "सनसनी" फैला कर वोट की फसल काटना. पंजाब का मिजाज चाहे जो हो, देश मजबूती से मोदी जी के साथ खड़ा है.
              Reply
            2. S
              sunil
              Oct 3, 2016 at 3:59 am
              अबे जितना मोदी ने अब तक कर दिया है उतना सोचने के लिए न तो तेरे पास दिमाग है न तो आप पार्टी के पास छमता जानता है जितने mla app के हैं उसमे आधा कर्रेप्ट हैं और ४ मप में ३ बगवत पर उतारू हैं अभे २साल भी नहीं हुवा उसके कितने मंत्री कर्रप्शन सेक्स स्कैंडल फैी फाइट नौकरशाई फाइट में अपना असली फेस दिखा चुके हैं ओ भी इतने छोटे केंद्र सासित प्रदेश में
              Reply
              1. Load More Comments

              सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

              सबरंग