May 27, 2017

ताज़ा खबर

 

पार्टी की बैठक में बीजेपी महासचिव के मुंह से निकला- कर्नाटक में 150 सीटें जीत कर कांग्रेस बनाएगी सरकार

आखिर में पी मुरलीधर राव ने भाजपा के सोशल मीडिया सेल को उनके संबोधन का पूरा वीडियो जारी करने के लिए कहा।

Author May 10, 2017 12:14 pm
कर्नाटक में विधान सभा की कुल 225 सीटें हैं। सरकार बनाने के लिए किसी भी पार्टी को 113 सीटों की जरूरत होती है। (फोटो-एजेंसी)

बड़े-बड़े वादे और इरादे राष्ट्रीय राजनीति में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पहचान बनते जा रहे हैं। पार्टी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का कद इतना बढ़ गया है कि आम तौर पर कोई भी भाजपा नेता उन दोनों की राय के प्रतिकूल विचार रखने से बचता है। लेकिन हाल ही में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव पी मुरलीधर राव की जबान कर्नाटक में एक पार्टी बैठक के दौरान फिसल गयी जिसके लिए उन्हें गहरा अफसोस हो रहा होगा।

मुरलीधर राव ने पार्टी की बैठक में कहा दिया कि कर्नाटक में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव में कांग्रेस 150 सीटें जीतेगी। कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए 113 सीटें ही काफी होती हैं। राव को तुरंत ही अपनी भूल का अहसास हो गया और उन्होंने अपनी बात दुरस्त करते हुए कहा कि कर्नाटक में आगामी विधान सभा चुनाव में भाजपा 150 सीटें जीतेगी। लेकिन राव की अनचाही भूल से पार्टी को अवांछित नुकसान हो गया। उनके बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर लीक हो गया। आखिर में मुरलीधर राव ने भाजपा के सोशल मीडिया सेल को उनके संबोधन का पूरा वीडियो जारी करने के लिए कहा।

कर्नाटक में अभी कांग्रेस की सरकार है। कांग्रेस के के सिद्धारमैया राज्य के मुख्यमंत्री हैं। कर्नाटक में पिछला विधान सभा चुनाव मई 2013 में हुआ था। राज्य में विधान सभा की कुल 225 सीटे हैं। पिछले चुनाव में कांग्रेस ने राज्य की 125 सीटों पर जीत हासिल करके भाजपा को सत्ता से बाहर कर दिया था। भाजपा को 44  और जनता दल (सेकुलर) 40 सीटों पर जीत मिली थी। बाकी सीटें अन्य पार्टियों और निर्दलियों के खाते में गयी थीं।

2013 के चुनाव में भाजपा को बीएस येदियुरप्पा के पार्टी छोड़ने का बड़ा नुकसान हुआ था। येदियुरप्पा के नेतृत्व में ही भाजपा पहली बार किसी दक्षिण भारतीय राज्य में सरकार बनाने में सफल हुई थी। येदियुरप्पा ने भाजपा से निकलने के बाद अलग पार्टी बनाकर चुनाव लड़ा था। येदियुरप्पा भले ही अपनी पार्टी को जीत न दिला सके हों उन्होंने भाजपा को हराने में अहम रोल अदा किया। येदियुरप्पा ने लोक सभा चुनाव से कुछ महीने पहले जनवरी 2014 में भाजपा में घर वापसी कर ली। इसलिए पार्टी को उम्मीद है कि आगामी विधान सभा चुनाव में वो एक बार अच्छा प्रदर्शन करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 10, 2017 8:06 am

  1. एकेएस
    May 10, 2017 at 10:00 am
    मीडिया का स्तर दिन प्रतिदिन गिरता जा रहा है। किसी के मुह से कोई शब्द भी गलती से निकाल गया तो वह खबर हो गयी। अरे कुछ तो स्तर बनाए रखो। एक नेता दिन भर दूसरी पार्टी को कितने बार कोसते है। भूल से उसी पार्टी का नाम जुवान से निकाल जाता है जब वो अपनी पार्टी का नाम लेना चाहते है। मुझे नहीं लगता एक गंभीर पत्रकारिता को इसे खबर बनानी चाहिए। लोकसभा मे भी कितने बार मैंने देखा है की सांसदो के मुह से गलत शब्द निकाल जाते है और वे तुरंत सुधरते है। हमारे जीवन के दैनिक कार्यो मे भी येसा होता है कृपया इसे इतना संवेदनशील न बनाए, नहीं तो जीवन जीन मुश्किल हो जाएगा। ईश्वर पत्रकारिता मे सद्बुद्धि और विकास करे।
    Reply

    सबरंग